पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

बुधवार, 30 जनवरी 2013

पंखुरी सिन्हा की तीन कविताएँ

पंखुरी सिन्हा 

मुजफ्फरपुर, बिहार में 18 जून 1975 को जन्‍मीं पंखुरी सिन्‍हा की एक युवा साहित्यकार के रूप में जो अहमियत है वह न केवल कहानियां लिखने से है, बल्कि कविताएँ लिखने से भी है। उनका एक कविता संग्रह 'ककहरा' प्रकाशनाधीन है, जबकि उनकी कहानियों के दो संग्रह  'कोई भी दिन' एवं 'क़िस्सा-ए-कोहनूर' प्रकाशित हो चुके हैं। उनकी कविताएँ और कहानियाँ विभिन्‍न पत्र-पत्रिकाओं में भी प्रकाशित हो चुकी हैं। उन्‍हें गिरजा कुमार माथुर पुरस्कार (1995)। शैलेश मटियानी कथा-सम्‍मान (2007), चित्रा कुमार पुरस्कार (2007) से सम्मानित किया जा चुका है।  शिक्षा: १९९६ में इन्द्रप्रस्थ कॉलेज से इतिहास ऑनर्स में बी.ए., १९९८ में सिम्बियोसिस- पुणे से पत्रकारिता में पी. जी. डिप्लोमा, २००८ में एस.यू.एन.वाई.-बफलो से इतिहास में एम.ए. एवं पी.एच.डी. (शोधरत)। सम्प्रति: आजकल न्यूयार्क में एक टेलीविज़न चैनल में कार्यरत। संपर्क: कैलगरी, कनाडा। ई-मेल: sinhapankhuri412@yahoo.ca 

चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार 
1. धुनों की पकड़ ...

धुनें अभी पूरी तरह पकड़ में नहीं आई थीं,
और संगीत किसी बच्चे की गेंद की तरह फिसलता जाता था,

मुट्ठियों से, उगंलियों की दरारों से,
और विदेशी संगीत तिरता आ रहा था,

खुले रोशनदानों से, खुली खिड़कियों से,

लोगों की गाड़ियों से,

मकान मालकिन के टीवी और रेडियो से,
और अधूरी अधूरी थीं चिट्ठियां सारी,
लिखकर भेज दी गयीं भी,
अत्यन्त प्रिय जनों को। 

2. अँधेरा...

अँधेरा, 
इतना घना, इतना गहरा,
और भेदती हो उसको उसकी प्रार्थना,

जैसे कवच पहनाती हो उसे, 
और अँधेरा महसूस होता हो जैसे कोई गुफा, 
आदिम, खामोश, खुंखार, 
और चमकते हों कवच उसके, 

जैसे बताते हों शत्रु को पता उसका, 
लपकते हों अस्त्र, शिकारी हो अँधेरा,

टटोलते उसे, 
भरते हुए कोटरों में प्रार्थनाएं, 
पूजनीय तत्त्व, 
जगाना असाध्य उर्जा,
अदृश्य शक्ति, 

प्रार्थना नहाते भी, 
और नहाना भी अँधेरे में,
घुप्प कर अँधेरा, 

बुझाकर सारी दिया बाती,
ये तो परंपरा नहीं,

लेकिन परंपरा है, 
नहाते हुए भजने का उसका नाम,

परंपरा है, प्रार्थना की, 
निष्कवच।

3. आकृतियाँ...

वह जाग रही थी, 
जैसे बम विस्फोटों के अलग अलग स्थानों पर, 
या अलग अलग बमों के फटने से, 
एक देश का आज, दूसरे देश का कल, 
खबरें शुरू हो रही थीं,
देशों के नाम से,
या नागरिकताओं के नाम से,

नागरिकताओं की हस्ती को लेकर लड़ाई थी,
भाषाओं की हस्ती को लेकर भी,
सबकुछ के वर्गीकरण का एक नया खेल था,
लोगों के ड्राइंग रूम्स में, अजीब किस्म की बहसें थीं,
कि किस नागरिकता के लोग, कैसे जी सकते थे?

फिर ये बातें धर्म तक पहुंचती थीं,
और मामला संगीन होता था,
जाति, जनजाति तक पहुंचते, पहुंचते,
और भी संगीन,

किसको कितनी आज़ादी थी, कौन तय कर रहा था?

कैसी छूट थी किसेकहाँ तक पहुँचने के अवसर किन्हें?

Three Hindi Poems of Pankhuri Sinha

33 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. namaste avnish ji , sabhi rachnaye acchi lagi , , naye parichaye se roobaroo accha raha . badhai aap dono ko

      हटाएं
    2. Bahut dhanyawad Bhavna ji, behad khushi hui ki kavitayein aapko pasand aayin

      हटाएं
  2. आपकी पोस्ट 31 - 01- 2013 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें ।
    --

    जवाब देंहटाएं
  3. कवितायें हैं या अटपटी कहानियां ....

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय डॉ गुप्ताजी, ब्लॉग पर पधारने के लिए आभार। क्या आप अभी तक निर्णय नहीं कर पाए कि ये रचनाएँ क्या हैं?

      हटाएं
    2. Aadarniya Dr Gupta ji, Kavitayein hain, ek behad rajnitik mahaul ki, vyakti ke aage lagataar parikshayein dalne ki, yudh ke traas ki, agar in sab silsilewar baaton mein aapko kahin kahanipan nazar aata hai, to hum zaroor baatein kar sakte hain, kavita ki paridhi par, uske vistaar par. Tippani ke liye, sawal ke liye dhanyawad.

      हटाएं
  4. bahut sunder chitran kiya aapne bhawanao ko Pankhuri ji.

    जवाब देंहटाएं
  5. कठिन समय के बयान! अच्छा लगा इनको पढना!

    जवाब देंहटाएं
  6. आज के समय की समस्याओं को काफी कलात्मक ढंग से कहने की कोशिश की है पंखुरी। अच्छी रचनाएँ हैं। लिखती रहो। बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  8. गद्य एवं रहस्यात्मक कविताये है आधुनिक मनोवृति का परिचायक है...........बढ़िया है....कविता के लिए आप हार्दिक बधाई की पात्र है............

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी कविताये हैं; हार्दिक बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  10. bahut aachhi kavita hai
    pankhuri ko meri or se badhai
    vishnu gupt
    columnist
    new delhi

    जवाब देंहटाएं
  11. पिछले तीन साल से मैं इस कवि को जानता हूँ और बड़ी रुचि के साथ इनकी कविताएँ पढ़ता हूँ। तीनों कविताएँ बेहद अच्छी और सामयिक हैं।

    जवाब देंहटाएं
  12. पंखुरी, कविताओं में संवेदनशीलता हैं। जितना ज्यादा लिखेंगीं उतनी स्पष्टता और गहराई आएगी। शुभकामनाएं!

    जवाब देंहटाएं
  13. प्रतिक्रिया एवं बधाई देने वाले सभी सम्मानित मित्रों/ अग्रजों का ह्रदय से आभार

    जवाब देंहटाएं
  14. तीनों कविताएं महत्वपूर्ण हैं. भिन्न भावभूमियों पर खड़ी दिखने के बावजूद, कहीं कोई एक धागा है जो इन्हें जोड़ता है. ताज़गी इनका स्थाई भाव है.

    जवाब देंहटाएं
  15. एकदम नए रंग और भावबोध से लबरेज कवितायेँ। बधाई पंखुरी को।

    जवाब देंहटाएं
  16. महत्त्वपूर्ण कविताएँ हैं ... ताज़गी से लबरेज ये कविताएँ स्पीड ब्रेकर की तरह हैं जो आपको रुक कर सोचने पर मजबूर करती हैं..

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत अच्छी लगी शुक्रिया ।

    जवाब देंहटाएं
  18. SACH BAHUT GAHRI SOCH KO LEKAR TINO KAVITAYE BUNI GAYI HAI...AUR POORI BAHVOOKTA JHALK RAHI HAI....ITNI SUNDER DIL KO CHOONE WALI KA KAVITAO KE LIYE MERI HARDIK SHUBHKAMNAYE SWEEKARE.....PANKHURI

    जवाब देंहटाएं
  19. आज के कठिन समय के निविड़ भावबोध को सहेजे सुंदर और अर्थगंभीर रचनाएँ।बहुत बहुत साधुवाद

    जवाब देंहटाएं
  20. "आकृतियाँ" कविता मारक है, माने प्रभावित करने वाली, आप अच्छा लिख रहीं हैं बधाई.
    हाँ,धूनों की पकड़ कविता में सहेजी हुई पीड़ा है, जिसका फिलहाल कोई ईलाज शायद न हो.

    जवाब देंहटाएं
  21. Hi Pankhuri..... abhi abhi tumhari teenon kavitayen padhi..... ekdam naya sa bhav jagati kavitayen hain...... kuchh aur kavitayen padhne ka man hai....... kya bhej sakogi......
    aajkal kahan ho Pankhuri......?

    जवाब देंहटाएं
  22. बहुत सुंदर सार्थक कवितायें हैं.....बधाई और शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  23. पंखुरी अच्छी कविताएं लिखती हैं। बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  24. कवितायेँ अपने तेवर के साथ उपस्थित हैं |

    जवाब देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: