पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

शनिवार, 3 सितंबर 2011

तीन गज़लें: कवि- ओंकार सिंह



ओंकार सिंह


जन्मतिथि: ०४ जुलाई १९५०
जन्म-स्थान: ग्राम- चंगेरी (मुरादाबाद)
प्रकाशन: अनेक पत्र-पत्रिकाओं एवं समवेत संकलनों में 
ग़ज़ल, दोहे, गीत, मुक्तक आदि प्रकाशित
कृति: संसार हमारा है (गज़ल संग्रह) २००८ में प्रकाशित
सम्प्रति: विद्युत विभाग, मुरादाबाद में कार्यरत
संपर्क: १ बी/ २४१, बुद्धि विहार, आवास विकास कालोनी 
दिल्ली रोड, मुरादाबाद, उ.प्र.
चलभाष: ०९९९७५०५७३४


चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार

1. दीप मुहब्बत का जलाया जाए

यूं कोई दीप मुहब्बत का जलाया जाए
दोस्तों! जिसका ज़माने में उजाला जाए ।

दिल की कश्ती है घिरी वक़्त के तूफानों में
ग़र्क होने से भला कैसे बचाया जाए ।

खून इंसान का जो चूस के फूली है बहुत
ऐसी जोंकों का निशां जड़ से मिटाया जाए ।

ज़हर  नफ़रत का जो इंसां के लहू में घोलें
ऐसे नागों से अब इंसां को बचाया जाए ।

मसअला हल कोई बन्दूक नहीं कर सकती
क्यों न हल बैठ के आपस में निकाला जाए ।

नित नये रंग हों खुशबू हो प्यारी-प्यारी
ऐसे फूलों से ही गुलदस्ता सजाया जाए ।

जिससे लोगों के दिमागों में हो नफ़रत पैदा
ऐसी बातों को न अब शेरों में ढाला जाए ।

प्यार की जोत हर इक दिल में जलाकर 'ओंकार'
जग से नफ़रत के अंधेरों को मिटाया जाए ।

२. हौसलों से तय करेंगे

हौसलों से तय करेंगे ज़िन्दगानी का सफ़र
ग़म की राहों में भी होगा शादमानी का सफ़र ।

एक होकर हम लड़ें जो मुश्किलाते-दह् र से 
खुशनुमा हो जाएगा फिर ज़िंदगानी का सफ़र ।

हमको हैरत से ज़माना देखता रह जाएगा
रंग लाएगा हमारी जांफ़िशानी  का सफ़र ।

हम अगर इक दूसरे का हर क़दम पर साथ दें
रास आ जाए हमें भी ज़िंदगानी का सफ़र ।

हम बढ़ाएंगे क़दम जब दोस्ती की राह में
ख़त्म हो जाएगा ख़ुद ही बदगुमानी का सफ़र ।

यूं दिलों में हम जलाएंगे मुहब्बत के दिए
नूर की राहों में गुज़रेगा जवानी का सफ़र ।

कीजिए 'ओंकार' अच्छे काम दुनिया में सदा
बीत जाए कब न जाने ज़िंदगानी का सफ़र ।

३. देखते चलें

ज़द में उदासियों की वतन देखते चलें
आओ फिर एक बार चमन देखते चलें।

मेले न महफ़िलें हैं, न यारों के क़हक़हे 
वीरान क्यों है आज वतन देखते चलें ।

किस वास्ते रुखों पै उदासी है आजकल
किस आग में जले हैं बदन देखते चलें ।

चिड़ियों के चहचहाने से कोयल के गीत से
क्यूं गूंजता है अब भी चमन देखते चलें ।

टी.वी के शौक़ में हैं घिरे लोग आजकल
सजती कहाँ है बज़्मे-सुख़न देखते चलें।

फ़स्लें उगा रहे हैं  पसीना बहा के जो
चेह् रों की आज उनके थकन देखते चलें ।

किन महफ़िलों में जशने-चिरागां है दोस्तो
है किन घरों में आज घुटन देखते चलें ।

'ओंकार' सीखना है अगर प्यार का सबक़
सागर से इक नदी का मिलन देखते चलें ।


Three Gazals of Onkar singh


3 टिप्‍पणियां:

  1. हौसलों से तय करेंगे ज़िन्दगानी का सफ़र
    ग़म की राहों में भी होगा शादमानी का सफ़र... बेहतरीन गज़ले....

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की लगाई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी ग़ज़लें....भाई ओंकार सिंह जी को बहुत-बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: