पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

गुरुवार, 18 फ़रवरी 2016

त्रिलोक सिंह ठकुरेला के हाइकु

त्रिलोक सिंह ठकुरेला

०१ अक्टूबर १९६६ को हाथरस उ.प्र.) में जन्मे त्रिलोक सिंह ठकुरेला हिंदी साहित्य के सशक्त रचनाकार है। आपके द्वारा सृजित- 'नया सवेरा' (बालगीत संग्रह) एवं 'काव्यगंधा' (कुण्डलिया संग्रह) और संपादित संकलन- 'आधुनिक हिन्दी लघुकथाएं', 'कुण्डलिया छन्द के सात हस्ताक्षर', 'कुण्डलिया कानन' एवं 'कुण्डलिया संचयन' प्रकाशित हो चुके हैं। वर्तमान में आप कुंडलिया छंद के उन्नयन, विकास और पुनर्स्थापना हेतु कृतसंकल्प एवं समर्पित हैं। आबू समाचार के दशाब्दी समारोह पर राजस्थान के माननीय शिक्षामंत्री द्वारा सम्मानित, हिंदी साहित्य सम्मलेन, प्रयाग द्वारा ' वाग्विदान्वर सम्मान ', पंजाब कला, साहित्य अकादमी, जालंधर द्वारा 'विशेष अकादमी सम्मान', विक्रमशिला हिंदी विद्यापीठ गांधीनगर (बिहार) द्वारा 'विद्या वाचस्पति', राष्ट्रभाषा स्वाभिमान ट्रस्ट (भारत) गाज़ियाबाद द्वारा ' बाल साहित्य भूषण’ एवं हिंदी साहित्य परिषद , खगड़िया (बिहार) द्वारा 'स्वर्ण सम्मान' से अलंकृत। सम्प्रति- उत्तर पश्चिम रेलवे में इंजीनियर। संपर्क- बंगला संख्या- 99, रेलवे चिकित्सालय के सामने, आबू रोड- 307026 (राजस्थान); मोबाइल- 02974-221422/ 09460714267/ 07891857409; ई-मेल: trilokthakurela@gmail.com।

चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार
1. वही प्रबुद्ध
जिसने जीत लिया
जीवन युद्ध

2. दौड़ाती रही
आशाओं की कस्तूरी
जीवन भर

3. नयी भोर ने
फडफड़ाये पंख
जागीं आशाएं

4. प्रेम देकर
उसने पिला दिए
अमृत घूँट

5. थका किसान
उतर आई साँझ
सहारा देने

6. किसे पुकारें
मायावी जगत में
बौराये लोग

7. बनाता रहा
बहुत सी दीवारें
वैरी समाज

8. दम्भी आंधियां
गिरा गयीं दरख़्त
घास को नहीं

9. ढूँढते मोती
किनारे बैठ कर
सहमे लोग

10. इन्द्रधनुष
सुसज्जित गगन
मोहित धरा

11. सुबह आई
कलियों ने खोल दीं
बंद पलकें

12. खोल घूँघट
सहसा मुस्करायी
प्रकृति वधु

13. लुटाने लगे
मतवाले भ्रमर
प्रेम- पयोधि

14. उतरी धूप
खुशियाँ बिखराते
खिला आँगन

15 . सजने लगे
ऊँची टहनी पर
अनेक स्वप्न

16. तितली उड़ी
बालमन में सजे
सपने कई

17. नहीं टूटते
अपनत्व के तार
आखिर यूँ ही

18. कटे जब से
हरे भरे जंगल
उगीं बाधाएँ

19. मुस्कानें कहाँ
शहरों के अंदर
कोलाहल है

20. नहीं लौटता
उन्हीं लकीरों पर
समय-रथ

21.
कोसते रहे
समूची सभ्यता को
बेचारे भ्रूण


22. जीवन अर्थ
सब मिल जाता है
बनो समर्थ

23. साझा प्रयास
पहाड़-सी समस्या
हो जाती हल

24. पावस ऋतु
सुख बरसाती है
बूँद-बूँद में

25. खिलते फूल
प्रकृति वधू फेंके
मधु मुस्कान


Hindi Haiku by Trilok Singh Thakurela

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (19.02.2016) को "सफर रुक सकता नहीं " (चर्चा अंक-2257)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पूज्यवर, अतिसुन्दर रचनाएँ । हार्दिक बधाई । विनम्र प्रणाम ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुस्कानें कहाँ
    शहरों के अंदर
    कोलाहल है।
    सुंदर हाइकू।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: