पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

गुरुवार, 3 अगस्त 2017

सुनील गज्जाणी की 'इच्छा' को कथादेश पूरुस्कार

सुनील गज्जाणी

बीकानेर: सहित्य, संस्कृति और कलां की जानी-मानी पत्रिका 'कथा देश' द्वारा आयोजित अखिल भारतीय लघुकथा प्रतियोगिता में सुनील गज्जाणी की लघुकथा 'इच्छा' को सैकड़ो प्राप्त लघुकथाओं में से छठे स्थान के लिए चयनित किया गया। सुनील गज्जाणी की यह उपलब्धि बीकानेर सहित्य समाज के लिए गौरवपूर्ण है। 
 
सुनील गज्जाणी की यह लघुकथा आज के तकनीकी युग के ज्वलंत विषय 'मोबाईल का प्रयोग' पर है।  आजका आदमी मोबाईल में इतना खोया रहता है कि पास बैठी पत्नी गुमसुम-सी उसे देखती रहती है और पति मुस्कुराता हुआ चैटिंग करता रहता है। अतः कथा में पत्नी के मनोयोग को दर्शाया गया है।

प्रतियोगिता के निर्णायक राज कुमार गौतम, सुकेश साहनी तथा हहारीनारायण थे। गौरतलब है कि इस लघुकथा का पंजाबी में भी अनुवाद हुआ है। कवि ,नाटककार गज्जाणी इससे पूर्व भी अखिल भारतीय काव्य तथा लघुकथा प्रतियोगिताओं में पुरस्कृत हो चुके हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: