पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

सोमवार, 28 फ़रवरी 2011

हैदराबाद में निराला सम्मान एवं अ. भा. कवि सम्मेलन संपन्न



clip_image001[4] 

बायें से दायें पहली पंक्ति में खड़े हुए श्री गोविन्‍द अक्षय, श्री नेहपाल वर्मा, श्री मोटियानी जी, श्री राधेश्‍याम शुक्‍ल, पद्मश्री मित्‍तल, -----, श्रीमती रत्‍नकला मिश्रा, दूसरी पंक्ति में खड़े हुए डॉ0 किशन लाल तिवारी, कवि सागर, कन्‍हैया लाल शर्मा, श्री खाण्‍डेकर, श्री अस्‍थाना और श्री दयाकृष्‍ण तीसरी पंक्ति में बैठे हुए डॉ0 मधुर नज्‍मी,श्री रघुनाथ मिश्र, श्री श्‍याम सखा, श्री अशोक अश्रु और श्री राजेंद्र मिलन

clip_image001[4]


बसंत पंचमी के अवसर पर गीत चाँदनी के तत्वाधान में महाप्राण निराला जयन्ती का आयोजन राजस्थानी स्नातक संघ, आबिद में मंगलवार, ८ फरवरी, २०११ को संपन्न हुआ. स्वतंत्र वार्ता के संपादक डॉ राधेश्याम शुक्ल ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की. पदमश्री जगदीश मित्तल मुख्य अतिथि थे. श्रीकिशन गुप्ता और एहसान एम.ए. विशिष्ट अतिथि थे. कार्यक्रम का शुभारम्भ सरस्वती वंदना से हुआ . इस अवसर पर ६० बसंत दर्शन कर चुके कवियों को शाल, प्रशस्ति-पत्र एवं पुष्पमाला भेंट कर सम्मानित किया गया.

संयोजक कवि गोविन्द अक्षय ने स्वागत किया और सम्मानित होने वाले कवियों का परिचय प्रस्तुत किया. संयोजिका रत्नकला मिश्रा द्वारा प्रशस्ति-पत्र का पाठ किया गया. डॉ दयाकृष्ण गोयल, जगजीवनलाल अष्ठाना, चंद्रकरण खांडेकर, कन्हैयालाल शर्मा (हैदराबाद), डॉ राजेंद्र मिलन, अशोक कुमार बंसल (आगरा), डॉ श्याम सखा श्याम (करनाल, हरियाणा), रघुनाथ मिश्र (कोटा, राज.), डॉ किशन तिवारी (भोपाल , म,प्र.), डॉ मधुरनज्मी (मऊ, उ.प्र.), प्रेम सागर कालिया, (अमृतसर, पंजाब), को गीत चांदनी निराला सम्मान से अलंकृत किया गया.





कार्यक्रम के दूसरे दौर में अखिल भारतीय कवि सम्मलेन हुआ, जिसमे स्थानीय एवं आगंतुक साहित्यकारों ने रचना पाठ किया. कार्यक्रम का संचालन नेह्पाल वर्मा ने तथा आभार अभिव्यक्ति रत्नकला मिश्रा ने की .


 


1 टिप्पणी:

  1. Priya abnish,
    Dher saara pyaar.itna sundar blog,net linkage,vyapak star par sampark,sarthak-santulit-napa-tula samachar sanyojan kabile tareef hi nahin,mere jaison ke liye aspiring hai.saduvad,badhai,dhanyabad,shubhkamnayen.blog ki har samagree sarsari nigah se dekha.aapko utkrist samman,behtar sameeksha,neeraj ke sammansamaroh sahit har samagree upukt hai.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: