पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

शनिवार, 27 अगस्त 2011

सुषमा वर्मा की दो कविताएँ

सुषमा वर्मा

जन्म: कानपुर (उ.प्र.) में
शिक्षा: बी.एड., एम.ए. , यूं जी सी-नेट (समाजशास्त्र)
प्रकाशन: विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित
सम्प्रति: डिग्री कॉलेज में प्रवक्ता
ब्लॉग: आहुति (sushmaaahuti.blogspot.com)


चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार

1. मैं लिखती नहीं कोई कविता

जब भी लिखती हूँ मैं
शब्द मेरे ख्याल तुम्हारा होता है
जब भी लिखती हूँ मैं
सवाल मेरे जवाब तुम्हारा होता है..!

जब भी लिखती हूँ मैं
जो बात तुमसे कही नही अभी तक
वो बात-वो प्यार मेरे शब्दो में उभर जाता है
मैं लिखती नहीं कोई कविता,
तुम्हारा ख़याल कविता बन कर पन्नों पर बिख़र जाता है..!

जब भी लिखती हूँ मैं
जीत लूँगी इस जीवन को
शब्द मेरे विश्वास तुम्हारा होता है
मैं लिखती नही कोई कविता
सिर्फ शब्द मेरे और साथ तुम्हारा होता है...!

2. जिन्दगी

जब भी जिन्दगी में लगा कि सब
कुछ खत्म हो गया
तभी एक उम्मीद सी दिल में जगती है
कि शायद यही शुरुआत है!
जब भी बिना आह के दिल टूट कर बिखर गया
मैं मुस्कराती रही
मेरी मुस्कराहट के पीछे धीरे-धीरे से
एक दर्द का तूफान गुजर गया
पता नही मैंने जिन्दगी को बदल दिया
या जिंदगी ने मुझे बदल दिया
पर जिन्दगी की राहें जब भी खत्म हुई
मैंने रास्ता बदल दिया
एक उलझन ही रही मेरी जिंदगी
मैं जिन्दगी के हर मोड़ पर जीने के बहाने ढूँढती रही
पर जिन्दगी को हर बार मुझे हराने के बहाने मिलते रहे...
कुछ कमी थी शायद मेरी कोशिशो में ...
जिन्दगी हर बार जीत गयी अपनी साजिशो में!


Three Poems of Sushama Varma

3 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ कमी थी शायद मेरी कोशिशो में ...
    जिन्दगी हर बार जीत गयी अपनी साजिशो में!
    वाह ... हर पंक्ति भावमय करती हुई ... बहुत-बहुत बधाई के साथ शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब ... हर पंक्ति प्रेम का अनुख रूप लिए नही ... भावमय रचनाएं हैं दोनों ही ... लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: