पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

शनिवार, 8 अक्तूबर 2011

कैक्टस और पलाश का लोकार्पण

चित्र में : सर्वश्री योगेन्द्र कुमार, माहेश्वर तिवारी और हितेश शर्मा

मुरादाबाद (05 अक्टूबर 2011): मधुकर स्मृति ट्रस्ट की ओर से महत्वपूर्ण कवि योगेंद्र कुमार के काव्य संग्रह कैक्टस और पलाश का बुधवार को नोजगे प्री सेकेंड्री स्कूल में समारोहपूर्वक लोकार्पण किया गया। मुख्य अतिथि साहित्यकार हितेश शर्मा ने मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस मौके पर मुरादाबाद के गीतकारों की काव्य सर्जना पर चर्चा की गई। प्रख्यात कवि माहेश्वर तिवारी ने कहा कि योगेन्द्र कुमार की रचनाओं का कथ्य वैश्विक चिंताओं को समेटे है। वरिष्ठ कवि अंबरीष गर्ग ने कहा कि कैक्टस और पलाश की सारी कविताएं समाज को दिशा देती हैं। योगेन्द्र वर्मा 'व्योम' ने माना कि यह संग्रह विसंगतियों के विरुद्ध एक अच्छी पहल है। इस मौके पर योगेंद्र वर्मा व्योम, अवनीश सिंह चौहान, मनोज मनु, मीना नकवी, शिव अवतार सरस, जिया जमीर, फक्कड़ मुरादाबादी, अशोक विश्नोई, डा.प्रज्ञा गोयल, विकास मुरादाबादी, रघुराज सिंह निश्चल, रामेश्र्वर प्रसाद वशिष्ठ समेत कई साहित्यकारों को मधुकर श्री सम्मान दिया गया। अध्यक्षता प्रख्यात नवगीतकार माहेश्र्वर तिवारी और संचालन भारती रस्तोगी ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: