पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

रविवार, 30 अक्तूबर 2011

जो हुआ तुम पर हुआ हम पर हुआ: कवि- रमाकांत



कृति : जो हुआ तुम पर हुआ हम पर हुआ
कवि : रमाकांत
प्रकाशन वर्ष : 2007
पृष्ठ : 103
मूल्य : सजिल्द-  रुo 120/-
प्रकाशक : प्रभु प्रकाशन, मुराईबाग
डलमऊ, रायबरेली (उ.प्र.)
दूरभाष: 09415958111

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: