पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

गुरुवार, 17 नवंबर 2011

तीन नवगीत: कवि- रमाकांत

रमाकांत


सिर पर / सुख के बादल छाए
दुख नए तरीके से आए।

घर है, रोटी है, कपडे हैं
आगे के भी कुछ लफड़े हैं
नीचे की बौनी पीढी के,
सपनों के नपने तगड़े हैं

अनुशासन का/ पिंजरा टूटा
चिडिया ने पखने फैलाए। 
(दिनेश सिंह)

प्रख्यात नवगीतकवि  एवं आलोचक श्री दिनेश सिंह आधुनिक समय में जिन दुखों की बात कर रहे हैं उनके कारणों से भलीभांति परिचित है युवा गीतकार रमाकांत जी। शायद तभी भाई रमाकांत जी अपनी रचनाओं में सामाजिक, राजनैतिक एवं अध्यात्मिक क्षेत्र में व्याप्त विसंगतियों के प्रति न केवल सजग हैं बल्कि उन्हें पहचानकर अपने गीतों में ढालना भी उन्हें बखूबी आता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उनकी अभिव्यक्ति में ताज़गी है और विषयवस्तु में टटकापन। साथ ही वे अपने गीतों में रागभाव एवं गेयता को भी बनाये रखते हैं। इसीलिए उनके गीत अपने समय का दस्तावेज़ कहे जा सकते हैं। पूरे लाऊ, बरारा बुजुर्ग, जनपद रायबरेली (उ.प्र.) में जन्मे रमाकांत जी एम.ए., एम.फिल. एवं पत्रकारिता में पी.जी डिप्लोमा करने के बाद अध्यापन से जुड़ गये। 'वाक़िफ रायबरेलवी: जीवन और रचना', हिन्दी के सर्वश्रेष्ठ हाइकु', नृत्य में अवसाद', 'जमीन के लोग',  'सड़क पर गिलहरी', 'जो हुआ तुम पर हुआ हम पर हुआ' (नवगीत संग्रह) आपकी प्रकाशित पुस्तकें हैं। आप त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका 'यदि' के सम्पादक है। आपको म.प्र. का 'अम्बिका प्रसाद दिव्य स्मृति रजत अलंकरण' ('सड़क पर गिलहरी' कृति के लिए) सहित अन्य कई विशिष्ट सम्मान प्रदान किये जा चुके हैं। संपर्क- ९७, आदर्श नगर, मुराई बाग़ (डलमऊ), रायबरेली-२२९२०७ (उ.प्र)। मोब. 09415958111। यहाँ पर आपके तीन नवगीत दिये जा रहे हैं-

चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार
१. गाने दो

जीवन में
या सपने में
जो भी आता है
आने दो

जीवन छोटा है
सपने हैं
बहुत बड़े
हम अपने ही
पैरों पर
हैं नहीं खड़े
कोई टेक लगाये
पीछे चलता है
उस पर
थोड़ी नज़र रखो
या जाने दो

इश्तहार में
जो भी है
सब झूठा है
या कि कला का
मालिक ही
कुछ रूठा है
करो प्रार्थना
देखा सुना
सही ही हो
गलत गा रहा
यदि कोई तो
गाने दो ।

२. तेरी बातें कब होंगी

हर दम मेरी बातें
तेरी बातें
कब होंगी

बातों का सिलसिला
इधर से ही
क्यों चलता है
तेरे सिर तक
आते-आते
पानी ढलता है
यहाँ-वहाँ सब तरफ
एक बरसातें
कब होंगी

चटक-मटक कपड़ों में
छिप जाती हैं
तस्वीरें
खुले हुए चेहरे से
दिख जाती हैं
सब पीरें
पीरों को नींद
सुलाने वाली रातें
कब होंगी ।

३. ये दूकानें हैं

ये दूकानें हैं
दूकानें सजी-सजायीं हैं
दूकानें
मालिक के घर से
बिकने आयीं हैं

खड़ी हुई दूकानें
लेटी, बैठी, दूकानें
टेंट देखकर
बड़ी अदा से
ऐठीं दूकानें
दूकानों में
छीना-झपटी
बड़ी लड़ाई है

दूकानों तक
चलकर आना
एक जिन्दगी जीना
फूल और
काँटों का एक संग
पड़े रसायन पीना
जो पीना चाहें
पीने में
नहीं बुराई है

जो सामान
सजा रखा है
उसको खोलो, बांधो
तुरत-फुरत का
जादू-मन्तर
सधे न साधे माधो
फिर भी दूकानों की
माधो संग
सगाई है।

Three Hindi Poems Of Rmamakant

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचना शुक्रवारीय चर्चा मंच पर है ||

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. चटक-मटक कपड़ों में
    छिप जाती हैं
    तस्वीरें
    खुले हुए चेहरे से
    दिख जाती हैं
    सब पीरें
    पीरों को नींद
    सुलाने वाली रातें
    कब होंगी ।
    waah

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन में
    या सपने में
    जो भी आता है
    आने दो
    सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. Tino kavitayen, jivan,samaj aur vyaktiyon ke antarik pratidwand ( internal conflict) ko darshati hai.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: