पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

रविवार, 20 नवंबर 2011

उत्तरायण प्रकाशन की पुस्तकें

निर्मल शुक्ल
उत्तरायण प्रकाशन
एम-१६८, आशियाना
लखनऊ (उ.प्र.)-२२६०१२
भारत
मोब: +919839825062
 

नवगीत: नई दस्तकें (स.- निर्मल शुक्ल)


शब्दपदी (स.- निर्मल शुक्ल)

लखनऊ  के प्रतिनिधि गीतकार (स.- मधुकर अष्ठाना)

एक और अरण्य काल (नवगीत संग्रह)- निर्मल शुक्ल

नील वनों के पार (नवगीत संग्रह)- निर्मल शुक्ल

मुट्ठी भर अस्थियाँ  (नवगीत संग्रह)- मधुकर अष्ठाना

और कितनी देर (नवगीत संग्रह)- मधुकर अष्ठाना

दर्द जोगिया ठहर गया (नवगीत संग्रह)- मधुकर अष्ठाना

नई सदी के पाँव (दोहा संग्रह)- डॉ. ओमप्रकाश सिंह 

शब्द हैं प्रतिबिम्ब मेरे (नवगीत संग्रह)- डॉ. ओमप्रकाश सिंह 

किन्तु मन हारा नहीं (नवगीत संग्रह)- श्याम श्रीवास्तव 


Uttarayan Prakashan (Lucknow, U.P., India)kee Pustaken

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: