पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

शनिवार, 7 जुलाई 2012

प्रमोद वर्मा स्मृति संस्थान: ताशकंद में पाँचवाँ अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन सम्पन्न


ताशकंद। सृजन-सम्मान, छत्तीसगढ़ और प्रमोद वर्मा स्मृति संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में (सृजनगाथा डॉट कॉम, निराला शिक्षण समिति, नागपुर और ओनजीसी के सहयोग से) पांचवा अन्तरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन 24 जून से 1 जूलाई तक सपलतापूर्वक संपन्न हुआ । मुख्य आयोजन उज़्बेकिस्तान की राजधानी ऐतिहासिक शहर ताशकंद के होटल पार्क तूरियान के भव्य सभागार में 26 जून, 2012 के दिन हुआ । यह उद्घाटन सत्र बुद्धिनाथ मिश्र, देहरादून के मुख्य आतिथ्य एवं प्रवासी साहित्यकार डॉ. रेशमी रामधोनी, मारीशस की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर श्री हरिसुमन बिष्ट, सचिव, हिंदी अकादमी,दिल्ली, डॉ. शभु बादल, सदस्य, साहित्य अकादमी, डॉ. पीयुष गुलेरी, पूर्व सदस्य, साहित्य अकादमी, कादम्बिनी से जुड़े रहे वरिष्ठ पत्रकार-सम्पादक डॉ. धनंजय सिंह, वागर्थ के सम्पादक व प्रतिभाशाली युवा कवि श्री एकांत श्रीवास्तव एवं निराला शिक्षण समिति, नागपुर के निदेशक डॉ. सूर्यकान्त ठाकुर, आयोजन के प्रमुख समन्यवयक डॉ. जयप्रकाश मानस विशिष्ट अतिथि के रूप में मंचस्थ थे।

मुख्य अतिथि की आसंदी से वरिष्ठ गीतकार व राजभाषा के क्षेत्र में सराहनीय कार्य करने वाले डॉ. बुद्धिनाथ मिश्र ने कहा कि संस्कृति की आवश्यकता की प्रतिपूर्ति करने वाली हिंदी भाषा का विस्तार विश्व व मानव कल्याण के लिये एक अमोघ अस्त्र बन रहा है। सभी को चुनौती दे रहा है। बाज़ार की सर्वमान्य एवं सर्वाधिक भाषा के रूप में हिंदी का जादू दुनिया के सिर चढ़ कर बोल रहा है। उन्होंने कहा कि हिंदी विश्व की सिरमौर भाषा बनने की ओर अग्रसर है। यह समारोह हिन्दी की विश्व-भाषा बनने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण कदम है। यह सिद्ध करता है कि आज हिन्दी विश्व-फलक पर सरकारी बैसाखियों के सहारे नहीं, अपने पांवों पर चलकर आगे बढ़ रही है। आज हिन्दी साहित्य केवल भारत में ही नहीं लिखा जा रहा है, बल्कि तमाम देशों में पूरी ऊर्जा से रचा जा रहा है। इस प्रकार के सम्मेलन उस विराट साहित्य को समग्र रूप में प्रस्तुत करेंगे और भारत से बाहर रहकर प्रतिकूल परिस्थितियों में सृजन करने वाले रचनाकारों का हौसला बढ़ाएंगे। उन्होंने ताशकंद में 1966 में हुए भारत-पाकिस्तान समझौता, प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का स्मरण कराते हुए आव्हान किया है हमें उजबेकों से वह उपाय भी सीखना चाहिए,जिससे यह राष्ट्र अल्प अवधि में शत-प्रतिशत भ्रष्टाचार-विहीन और अपराध-मुक्त हो सका।

अध्यक्षीय उद्बोधन में मॉरीशस में महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट, भारतीय अध्ययन शाला की प्रमुख डॉ. रेशमी रामधोनी ने कहा कि तकनीकी युग में उसी भाषा का अस्तित्व बना रहेगा जो मनुष्य की जरूरतों को पूरा करती हुई तकनीकी के साथ भी सह-अस्तित्व में रहेगी। हिंदी में अन्यान्य भाषाओं और बोलियों का महासागर बनने की असंदिग्ध क्षमता है, इसे समय भी सिद्ध करता आ रहा है।


3 रचनाकारों का सम्मान

सम्मेलन में नागपुर के युवा आलोचक और नागपुर विश्वविद्यालय, हिंदी विभाग के अध्यापक डॉ. प्रमोद शर्मा, को प्रथम निराला काव्य सम्मान प्रदान किया गया । पुरस्कार स्वरूप उन्हें 21,000 रुपये, प्रतीक चिन्ह आदि से अलंकृत किया गया । इसके अलावा संतोष श्रीवास्तव, मुम्बई को कथालेखन एवं अहफ़ाज़ रशीद, रायपुर को इलेक्ट्रानिक पत्रकारिता में उल्लेखनीय योगदान के लिये सृजनगाथा सम्मान-2012 से अलंकृत किया गया।

28 कृतियों का विमोचन

5 वें अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन में एक साथ 28 साहित्यिक कृतियों का विमोचन हुआ । ये कृतियाँ हैं – श्रीमती सुमन सारस्वत, मुंबई,कथा संग्रह–मादा, डॉ. देवमणि पांडेय, मुंबई, ग़ज़ल संग्रह-अपना तो मिले कई, श्री दिनेश पांचाल, उदयपुर-कथा संग्रह–बहुरूपिये लोग, सुमन अग्रवाल, चैन्नई–ग़ज़ल संग्रह–मुझको महसूस करके देख, रेखा अग्रवाल, चैन्नई–ग़ज़ल–यादों का सफ़र, श्री हेमचन्दर सकलानी,आगरा, यात्रा संस्मरण–विरासत की खोज, डॉ. जे. आर. सोनी, रायपुर, कविता–बस्तर की कविताएं, डॉ. सरोज गुप्ता, गुडगाँव,बाल कविता संग्रह-बाल बगिया, श्री देवकिशन राजपुरोहित, जयपुर–जीवनी–मीरा बाई और मेड़ता, श्री देवकिशन राजपुरोहित, जयपुर- राजस्थानी व्यंग्य–निवान, श्रीमती उमा बंसल,दिल्ली,कविता-कुछ सच कुछ सपने, डॉ. मुनीन्द्र सकलानी, देहरादून–निबंध संग्रह–अभिव्यक्ति, श्री सुनील जाधव,नांदेड,कहानी- मैं भी इंसान हूँ, श्री सुनील जाधव, नांदेड, कविता संग्रह–मैं बंजारा,श्री सुनील जाधव, नांदेड, नाटक–सच का एक टूकड़ा, श्री मिर्जा हासम बेग, नांदेड-दक्षिनी साहित्यकार मुल्ला वजही , श्री मिर्जा हासम बेग, नांदेड,शोध धारा, डॉ. दामोदर मोरे, पुणे, कविता संग्रह– पद्य-रश्मि व सदियों के बहते जख्म, डॉ. सुजाता चौधऱी, भागलपुर–बापू और स्त्री/महात्मा का अध्यात्म/गांधी की नैतिकता, डॉ. महाश्वेता चतुर्वेदी, कानपुर,काव्य – ओमाय तथा उपमन्यु परीक्षा, श्री भगवान सिंह भास्कर, सिवान, विविध-कसौटी, आईना बोल उठा, वृक्ष कोटर से, श्री शिव प्रकाश जैन, उदयपुर, जीवनी–युगपुरुष महाराणा प्रताप ।

6 वां सम्मेलन संयुक्त अरब अमीरात में

समारोह के प्रारंभ में अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन के समन्वयक, प्रमोद वर्मा स्मृति संस्थान के निदेशक व सृजनगाथा डॉट कॉम के संपादक डॉ. जयप्रकाश मानस ने स्वागत वक्तव्य देते हुए बताया कि अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन में इस वर्ष से एक चयनित साहित्यकार को निराला शिक्षण समिति, नागपुर की ओर से 21 हजार रुपयेवाला निराला काव्य-सम्मान शुरु किया जा रहा है जिसकी नगद राशि अगले वर्ष से 50,000 रूपये की जा रही है । उन्होंने पिछले चारों आयोजनों के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि अगला यानी 6 वां अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन आगामी फरवरी 2013 में संयुक्त अरब अमीरात के दुबई, आबूधाबी, शारजाह में होगा ।

उक्त अवसर पर जयपुर की प्रख्यात कोरियोग्राफर सुश्री चित्रा जांगिड ने कत्थक नृत्य की प्रस्तुति ने सबका मन मोह लिया। 6 घंटे तक चलनेवाले मैराथनी उद्घाटन सत्र का सफलतापूर्वक संचालन प्रमोद वर्मा स्मृति संस्थान के उपाध्यक्ष श्री अशोक सिंघई ने किया । आभार माना सृजन-सम्मान के उपाध्यक्ष एच. एस. ठाकुर ने ।

अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन का गठन

सृजन-सम्मान द्वारा आयोजित होनेवाले अंतरराष्ट्रीय आयोजन के निरंतर संचालन, समन्वय और लोकव्यापकीकरण के लिए ‘अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन’ गठन का प्रस्ताव पारित करते हुए डॉ. बुद्धिनाथ मिश्र को सर्वसम्मति से प्रथम अध्यक्ष और डॉ. जयप्रकाश मानस को समन्वयक के रूप में मनोनीत किया गया । सम्मेलन के संरक्षक हैं – डॉ. गंगाप्रसाद विमल, खगेन्द्र ठाकुर, विभूति नारायण राय, विश्वरंजन, सत्यनारायण शर्मा और धनंजय सिंह ।

अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन के अन्य पदाधिकारी हैं- उपाध्यक्ष- रेशमी रामधुनी (मारीशस), एकांत श्रीवास्तव (पश्चिम बंगाल), हरिसुमन विष्ट (दिल्ली प्रदेश), मीठेश निर्मोही (राजस्थान), श्रीमती संतोष श्रीवास्तव (महाराष्ट्र), डॉ. प्रमोद कुमार शर्मा (विदर्भ), अशोक सिंघई (छत्तीसगढ़), सुमन अग्रवाल (तमिलनाडू), झारखंड (डॉ. प्रमोदिनी हांसदाक), शरद जायसवाल (मध्यप्रदेश), दिवाकर भट्ट (उत्तराखंड), पीयुष गुलेरी (हिमाचल प्रदेश), डॉ. महेश दिवाकर (उत्तरप्रदेश), डॉ. कामराज सिंधू (कुरुक्षेत्र), रंजन मल्होत्रा (हरियाणा), डॉ. भगवान सिंह भास्कर (बिहार) । मनोनीत राज्य समन्यवक हैं – लालित्य ललित (दिल्ली प्रदेश), आशा पांडेय ओझा (राजस्थान), डॉ. अभिज्ञात (पं. बंगाल), डॉ. देवमणि पांडेय (महाराष्ट्र), सुनील जाधव (विदर्भ), डॉ. सुधीर शर्मा (छत्तीसगढ़), डॉ. खिरोधर यादव (झारखंड), डॉ. सविता मोहन (उत्तराखंड), डॉ. ओमप्रकाश सिंह (उत्तरप्रदेश), दिनेश माली (उड़ीसा), डॉ. अशोक गौतम (हिमाचल प्रदेश), डॉ. जयशकंर बाबू (आंध्रप्रदेश), रवीन्द्र प्रभात (उत्तप्रदेश) आदि । विदेश से समन्यक हैं- पूर्णमा वर्मन (युएई), चांद हदियाबादी (डेनमार्क), प्राण शर्मा (ब्रिटेन), सुधा ओम धींगरा(अमेरिका), कुमुद अधिकारी (नेपाल), आभा मोंढे (जर्मनी) आदि । इस नवगठित संस्था के नेतृत्व में राज्य सरकारों, केन्द्र सरकार से ऐसे सम्मेलनों के लिए मिलनेवाले संभावित सहयोग भी प्राप्त किया जा सकेगा । इस समिति से दूर दराज तथा प्रवासी देशों में कार्य करनेवाले साहित्यिक संगठनों और इसके सदस्य साहित्यकारों को इस दिशा जोड़ने जोड़ा जायेगा । ताकि प्रतिवर्ष संबधित देश के किसी एक प्रतिष्ठित साहित्यकार या हिंदीसेवी या हिंदी की संस्था को सम्मानित किया जा सके । प्रतिवर्ष संबंधित देश के कवियों की एक सामूहिक कृति का प्रकाशन कर उनका रिकोग्नाईजेशन भारतीय भूमि से हो सके । इससे प्रवासी देशों में रचे जा रहे साहित्य के मुख्यधारा के मूल्याँकन में भी मदद मिलेगी । सम्मेलन में राजस्थान के प्रतिष्ठित साहित्यकारों की मांग पर राजस्थानी भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में समादृत करने के प्रस्ताव को नैतिक समर्थन दिया गया ।

आलोचना और उत्तर औपनिवेशक समय पर विमर्श

सम्मेलन का दूसरा सत्र ‘आलोचना और उत्तर औपनिवेशक समय’ पर केन्द्रित रहा। सत्र में हिन्दी आलोचना और वर्तमान समय पर चर्चा करते हुए वक्ताओं ने हिन्दी आलोचना के कई महत्वपूर्ण आयामों को स्पर्श किया। सत्र की अध्यक्षता साहित्य अकादमी के सदस्य, प्रसंग के संपादक व वरिष्ठ साहित्यकार शंभु बादल जी ने की। सत्र के प्रारम्भ में मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए आलोचक प्रो; प्रमोद शर्मा ने कहा कि आज की आलोचना को रचनाओं के साथ आज के उत्तर औपनिवेशक समय को भी समझना होगा। आज की रचनाएं सामाजिक जटिलताओं और बदलते समय के साथ और जटिल होती चली जा रही हैं। विशिष्ट अतिथि डॉ मुनीन्द्र सकलानी ने इस विषय पर बोलते हुए कहा कि आलोचना सिर्फ रचना को स्थापित करने या निरस्त करने के लिए नहीं होनी चाहिए बल्कि इसे पूरी ईमानदारी से साहित्य को एक दिशा देने का काम भी करना चाहिए। डॉ. प्रमोदनी हंसदा ने कहा कि आज आलोचना को उन रचनाकारों की रचनाओं पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए जो केन्द्र से दूर, किसी मठ के समर्थन के बिना साहित्यिक रचनाएं दे रहे हैं। सत्र के विशिष्ट अतिथि डॉ.धनंजय सिंह ने कहा कि आज जब लेखक और पाठक के बीच जो एक खाई बनती जा रही है। उसे अच्छी आलोचना के द्वारा ही पाटा जा सकता है। किसी भी दौर में उस समय की आलोचना को दरनिनार करके साहित्य को नहीं बचाया जा सकता। सत्राध्यक्ष शंभू बादल ने कहा कि साहित्य की दुनिया विचार की दुनिया है। इसमें सहमति-असहमति स्वाभाविक है, पर इससे वैचारिक प्रवाह बना रहता है और इसे किसी भी समय में रुकना नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि आलोचना का काम है जो हमारी परम्परा में श्रेष्ठ है उसे बचना और आगे की पीढ़ी के लिए उसे सहेजना। आलोचना सत्र का संचालन कहानीकार विवेक मिश्र ने किया। उन्होंने अपनी टिपण्णियों में हिन्दी आलोचना के इतिहास और उसके उत्तर औपनिवेशक समय तक के सफर को श्रोताओं के समक्ष रखा। सत्र में सम्मेलन के सभी सहभागियों के साथ। वरिष्ठ साहित्यकार बुद्धिनाथ मिश्र, वागर्थ के संपादक एकांत श्रीवास्तव, सृजनगाथा के संपादक जय प्रकाश मानस तथा हिन्दी अकादमी के सचिव हरिसुमन बिष्ट जी आदि सभागार में उपस्थित थे।

भाषा और संस्कृति एक दूसरे के रचयिता

भाषा खुद संस्कृति की इकाई है और संस्कृति का रचाव और विस्तार्य भाषा में ही होता है। भाषा का संरक्षण अपने मूल में संस्कृति का ही संरक्षण है । भाषा की समाप्ति का एक अर्थ संस्कृति की समाप्ति भी है । लुप्त प्रायः भाषाओं को बचाना एक विशिष्ट संस्कृति को बचाना है । इसी तथ्यों को केंद्र में रखते हुए अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन में विमर्श का खास सत्र रखा गया था – भाषा की संस्कृति और संस्कृति की भाषा । इस सत्र के वक्ता के रूप में भारत के विभिन्न राज्यों के विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग प्रमुखों का चयन किया गया था । सत्र की अध्यक्षता की हिंदी के डॉ. महेश दिवाकर ने और विशिष्ट अतिथि थे – रेशमी रामधोनी, दिवाकर भट्ट, डॉ. केसरीलाल वर्मा । सत्र के वक्ताओं में प्रमुख थे – डॉ, ओमप्रकाश सिंह, डॉ. कामराज सिंधू, डॉ. चंदा डिसूजा, डॉ. सुधीर शर्मा, डॉ. जंगबहादुर पांडेय डॉ. खिरोधर यादव, डॉ. गीता सिंह, प्रभाकुमारी, डॉ. महासिंह पुनिया, डॉ. मीना कौल, डॉ. मिर्जा हासम बेग, डॉ. सुनीति आचार्य, राजेश्वर आनदेव आदि ने अपने-अपने आलेखों का पाठ किया । सत्र का संचालन किया डॉ. नेशनल बुक ट्रस्ट के संपादक और युवा कवि लालित्य ललित ने ।

ताशकन्द में अंतरराष्ट्रीय कथा पाठ

कहानी सत्र में भारत के विभिन्न प्रान्तों से आए कथाकारों की बारह कहानियों का वाचन हुआ। कार्यक्रम 11 बजे आरंभ हुआ । अध्यक्ष हरिसुमन बिष्ट, डॉ. मुक्ता तथा मेजर रतन जांगिड़ थे। अतिथियों के स्वागत के पश्चात कहानी सत्र आरंभ हुआ। सर्व प्रथम उत्तराखंड के जन जीवन पर आधारित हरिसुमन बिष्ट ने अपनी कहानी ‘कौसानी मेँ जैली फिश’ सुनाई । इस बेहद मार्मिक कहानी के बाद मीठेश निर्मोही ने दिल को छू लेने वाली कहानी ‘बंधन’ सुनाई, दिनेश पांचाल ने ‘मारकणिया’, सुमन सारस्वत ने ‘तिलचट्टा’, डॉ सुजाता चौधरी ने ‘चुन्नू’, डॉ. मुक्ता ने ‘आईने के पार’, विवेक मिश्र ने ‘गुब्बारा’, डॉ मृदुला झा ने ‘जन्मदिन’, प्रत्यूष गुलेरी ने ‘भेड़’, मेजर रतन जांगिड़ ने ‘भूख’, रमेश खत्री ने चोरी तथा हेमचंद सकलानी ने ‘हल्कू’ सुनाकर श्रोताओ के दिल पर गहरा असर छोडा। तीन घंटे तक चले इस सत्र का संचालन अंतरराष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन की महाराष्ट्र राज्य की उपाध्यक्षा व कथाकार संतोष श्रीवास्तव ने किया।

50 से अधिक कवियों ने किया कविता पाठ

पांचवे अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन का मुख्य आकर्षण था उसका अंतिम सत्र जिसकी अध्यक्षता की वरिष्ठ कवि डॉ. बुद्धिनाथ मिश्र ने और विशिष्ट अथिति थे – वागर्थ के संपादक एकांत श्रीवास्तव तथा प्रगतिशील लेखक संघ राजस्थान के उपाध्यक्ष और वरिष्ठ कवि मीठेश निर्मोही । इस सत्र में शंभु बादल, डॉ. पीयूष गुलेरी, डॉ महेश दिवाकर, डॉ. ओमप्रकाश सिंह, लालित्य ललित, सुमन अग्रवाल, डॉ. महाश्वेता चतुर्वेदी, रंजन मल्होत्रा, उमा बंसल, मनोज कुमार मनोज, तिलकराज मलिक, वंदना दुबे, डॉ. अर्जुन सिसौदिया, मीना कौल, शरद जायसवाल, डॉ. सविता मोहन, संजीव ठाकुर, सुनील जाधव, अरविंद मिश्रा, राजश्री झा, देवी प्रसाद चौरसिया, रामकुमार वर्मा, रवीन्द्र उपाध्याय, डॉ. प्रियंका सोनी, डॉ. जे. आर. सोनी, रेखा अग्रवाल, तुलसी दास चोपड़ा, श्रीमती चोपड़ा, सरोज गुप्ता, रामकुमार वर्मा, सुषमा शुक्ला, डॉ. अमरेन्द्र नाथ चौधरी, प्रवीण गोधेजा, सेवाशंकर अग्रवाल, विमला भाटिया, आदि ने भिन्न शिल्प, छंद और सरोकारों की कवितायें सुनायीं । कई घंटो तक चले इस सत्र का संयुक्त संचालन किया शायर मुमताज और डॉ. देवमणि पांडेय ने । उक्त अवसर पर भारत के 137 साहित्यकार, लेखक, शिक्षक, पत्रकार, ब्लागर्स सहित ताशकंद शहर से बड़ी संख्या में साहित्यिक श्रोता उपस्थित थे ।

24 जून से 1 जुलाई, 2012 तक इस 7 दिवसीय आयोजन में अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन के समन्वयक डॉ. मानस, विकास मल्होत्रा, श्री एच.एस. ठाकुर, शनि चावला, मुमताज, अशोक सिंघई, रामशरण टंडन, कुमेश जैन, आदि की विशिष्ट भूमिका रही। सम्मेलन में सभी भारतीय दल के सदस्यों ने भारत के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री स्कवायर जाकर सामूहिक रूप से उन्हें श्रद्धांजलि दी और समरकंद सहित उज्बेकिस्तान के महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक स्मरकों का अध्ययन-पर्यटन किया ।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: