पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

रविवार, 28 फ़रवरी 2016

राष्ट्रीय सेवा योजना : सात दिवसीय विशेष शिविर का समापन

मंच पर डॉ सुरेन्द्र, उद्यान अधिकारी, डॉ माधुरी सिंह,
डॉ महेश दिवाकर, डॉ अवनीश सिंह चौहान
एवं डॉ प्रियंशा तिवारी (बाएं से दाएं)


मुरादाबाद, 19 फरवरी: राष्ट्रीय सेवा योजना हिन्दू कॉलेज की छात्र एवं छात्रा इकाईयों के सात दिवसीय विशेष शिविर का समापन हिन्दु कॉलिज के पुस्तकालय सभागार में किया गया।

छात्र-छात्राओं ने सरस्वती वंदना, स्वागत गीत एवं अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये। समापन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) सुजाता सिंह ने कहा कि एनएसएस जैसी गतिविधियां राष्ट्र सेवा एवं समाज सेवा के लिए प्रेरित करती हैं। एनएसएस के माध्यम से आपने जो सेवा की है और विभिन्न विषयों के सम्बन्ध में लोगों को विभिन्न तरीकों से जागरूक किया है, वह सराहनीय है। यह एक राष्ट सेवा है और राष्ट सेवा से बड़ी कोई सेवा नहीं है। 

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता वरिष्ठ साहित्यकार डा. महेश दिवाकर जी ने स्वयंसेविकाओं/ स्वयंसेवकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि एनएसएस जैसी योजनाओं से छात्रों से सहनशीलता, बंधुत्व, समायोजन, राष्ट्रप्रेम, समाज सेवा एवं सहिष्णुता जैसे अनेक गुणों का विकास होता है। विशिष्ट अतिथि समाज सेविका डा. माधुरी सिंह ने छात्र-छात्राओं में संस्कारों को सहजने और पोषित करने की इस पहल का स्वागत किया। विशिष्ट अतिथि साहित्यकार डा. अवनीश चौहान ने कहा कि समाज के समुचित विकास के लिए आत्म उत्थान के साथ जगत हित में भी कार्य करना चाहिए। यह शिविर इस विचारधारा को पोषित करता है। 

छात्र इकाई की आख्या कार्यक्रम अधिकारी डा. सुरेन्द्र सिंह एवं छात्रा इकाई की आख्या कार्यक्रम अधिकारी डा. प्रियंशा सिंह ने प्रस्तुत की। 

इस अवसर पर कालेज प्राचार्य डा. आरके गुप्ता, मुख्य नियंता डा. केसी गुप्ता सहित तमाम प्राध्यापक और विद्यार्थी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डा. प्रियंशा सिंह ने और आभार डा. सुरेन्द्र सिंह ने व्यक्त किया।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: