पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

शनिवार, 16 अक्तूबर 2010

अवनीश सिंह चौहान के नवगीत

चित्र गूगल से साभार 



1. हे स्वरदेवी...


मेरी जड़-अनगढ़ वाणी को
हे स्वरदेवी, अपना स्वर दे!

भीतर-बाहर घना अँधेरा
दूर-दूर तक नहीं सबेरा
दिशाहीन है मेरा जीवन
ममतामयी, उजाला भर दे!

मानवता की पढूँ ऋचाएं
तभी रचूँ नूतन कविताएँ
एकनिष्ठ मन रहे सदा माँ,
आशीषों का कर सिर धर दे!

अपने को पहचानें-जानें
'सत्यम्‌ शिवम्‌ सुन्दरम्‌' मानें
जागृत हो मम प्रज्ञा पावन
हंसवाहिनी, ऐसा वर दे!


2. सबके चरण गहूँ मैं



मेरी कोशिश
सूखी नदिया में-
बन नीर बहूँ मैं

बह पाऊँ
उन राहों पर भी
जिनमें कंटक बिखरे
तोड़ सकूँ चट्टानों को भी
गड़ी हुई जो गहरे

रत्न, जवाहिर
मुझसे जन्में
इतना गहन बनू मैं

थके हुए को
हर प्यासे को
चलकर जीवन-जल दूँ
दबे और कुचले पौधों को
हरा-भरा
नव-दल दूँ

हर विपदा में-
चिन्ता में
सबके साथ दहूँ मैं

नाव चले तो
मुझ पर ऐसी
दोनों तीर मिलाए
जहाँ-जहाँ पर
रेत अड़ी है
मेरी धार बहाए

ऊसर-बंजर तक
जा-जाकर
चरण पखार गहूँ मैं
3. मन का तोता
गूगल से साभार 


मन का तोता 
करता रहता
नित्य नए संवाद

महल-मलीदा,
पदवी चाहे
लाखों-लाख पगार
काम न धेले भर का करता
सपने आँख हजार

इच्छाओं की सूची
मेरे
सिर पर देता लाद

अपने आम 
बाग़ के मीठे
कुतर-कुतर कर फेंके
किन्तु पड़ोसी का 
खट्‌टा भी
चंहके उसको लेके

समझाने पर 
करता-रहता
अड़ा-खड़ा प्रतिवाद

विज्ञापन की भाषा बोले
'यह दिल माँगे मोर'
देख-देख बौराए 
तोता
देता खीस निपोर

बात न माने
करने लगता
घर में रोज़ फ़साद 

4. एक आदिम नाच 

आज मुझमें
बज रहा
जो तार है -
वो मैं नहीं -
आसावरी तू


एक स्मित
रेख तेरी
आ बसी
जब से दृगों में
हर दिशा
तू ही दिखे है
बाग़-वृक्षों में,
खगों में

दर्पणों के सामने
जो बिम्ब हूँ -
वो मैं नहीं -
कादम्बरी तू

सूर्यमुखभा!
कैथवक्षा!
नाभिगूढ़ा!
कटिकमानी
बींध जाते
हृदय मेरा
मौन इनकी
दग्ध वाणी

नाचता हूँ
एक आदिम
नाच जो -
वो मैं नहीं-
है बावरी तू

Avanish Singh Chauhan Ke Navgeet/ Dr Abnish Singh Chauhan

5 टिप्‍पणियां:

  1. मन का तोता बोला करता रोज़ नए संवाद...क्या बात है,
    अन्य नवगीत भी अच्छे बन पड़े हैं,बहुत-बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अवनीश सिंह चौहान मेरे सहकर्मी हैं , मैंने उनको इस सृजनात्मक कार्य के लिए ह्रदय से बधाई देती हूँ. वह न केवल अच्छे प्राध्यापक हैं, हिन्दी एवं अंग्रेजी के अच्छे लेखक हैं, बल्कि एक अच्छे इंसान भी हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरस्वती वंदना में न केवल आत्म उद्धार के लिए प्रार्थना की गयी है, बल्कि जगत कल्याण का भाव भी छिपा है. प्रयास कविता परोपकार की भावना को व्यंजित करती है, मन का तोता नवगीत मानव की असीमित इच्छाओं को उकेरता है तथा 'मारा आँख का पानी' आधुनिक चलन को व्यक्त करता है. चरों नागीत सुन्दर हैं. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर नवगीत ..बहुत-बहुत बधाई....
    रंगपर्व होली पर आपको व आपके परिवार को असीम शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं
  5. bhai wah kya kahne.sabko dikhana-parhana-parichit karana aur sahitya ka marmagya ban prerit karte hue samarh guru ki tarah navoditon ko unchaiyon ka sparsh kara dena-aise pratibha ke dhani-falak ke daideepyaman nakshatra ki kala pratibha ko salam.bahut aage jane ki apaar sambhavnayen hain avnish mein aur vo lagatar vistar pati ja rahi hain.badhai aur sunder-sarthak-prerak bhavishya ki shubhkamnaon ke saath.

    -RAGHUNATH MISRA

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: