पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

गुरुवार, 27 जनवरी 2011

श्याम नारायण श्रीवास्तव को देवराज वर्मा उत्कृष्ट साहित्य सृजन सम्मान



श्याम नारायण श्रीवास्तव को देवराज वर्मा उत्कृष्ट साहित्य सृजन सम्मान

clip_image001[4] 

 

clip_image001[4]



मुरादाबाद। साहित्यिक संस्था अक्षरा की ओर से चित्रगुप्त इंटर कालेज में आयोजित सम्मान समारोह में नवगीतकार श्याम नारायण श्रीवास्तव को देवराज वर्मा उत्कृष्ट साहित्य सृजन सम्मान से नवाजा गया।
संयोजक योगेंद्र वर्मा व्योम ने बताया कि सम्मान के लिए देश भर के हर विधा के साहित्यकारों ने 40 कृतियां भेजी थीं। तीन सदस्यीय निर्णायक मंडल (सर्वश्री माहेश्वर तिवारी, नचिकेता और आनंद कुमार 'गौरव') ने सभी प्रविष्टियों का अवलोकन कर श्याम नारायण श्रीवास्तव 'श्याम' की कृति 'किंतु मन हारा नहीं' को चयनित किया। मुख्य अतिथि पटना के वरिष्ठ साहित्यकार नचिकेता और विशिष्ट अतिथि लखनऊ के मधुकर अष्ठाना, शचींद्र भटनागर, अनुराग गौतम, अवनीश सिंह चौहान, नवगीतकार माहेश्वर तिवारी आदि ने श्याम नारायण श्रीवास्तव को स्मृति चिह्न, अंग वस्त्र और नकद धनराशि देकर सम्मानित किया। गीतकार माहेश्वर तिवारी ने कहा कि श्याम नारायण के गीतों में बिंब विधान और शिल्प इतने प्रभावशाली ढंग से समाविष्ट हैं कि पाठक और श्रोता दोनों भावविभोर हो जाते हैं। समारोह में काव्य गोष्ठी भी आयोजित की गई। कविता की हर पंक्ति ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया। इस मौके पर डॉ. मीना नक़वी, मनोज मनु, विवेक निर्मल, रामदत्त द्विवेदी, रघुराज सिंह निश्चल, अतुल कुमार जौहरी, पुष्पेंद्र कुमार सिंह, डा. स्वदेश भटनागर, डा. मनोज रस्तोगी, ब्रजभूषण सिंह गौतम, डा. पूनम बंसल, राजेश कुमार भारद्वाज आदि मौजूद रहे। संचालन आनंद कुमार गौरव ने किया।


1 टिप्पणी:

  1. --श्री श्याम नारायण जी को साहित्य सृजन सम्मान के लिये बहुत बहुत बधाई, श्याम जी हमारे लखनऊ की गुरुवासरीय गोष्ठी एवं प्रतिष्ठा सन्स्था की भी शान हैं, उनके गीतों से आनंदित होने का हमको सौभाग्य मिलता रहता है---
    --साहित्यिक संस्था अक्षरा को भी बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: