पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

मंगलवार, 19 जुलाई 2011

विप्रा कला साहित्य मंच द्वारा सम्मान समारोह एवं काव्यगोष्ठी

सत्येन्द्र तिवारी और शचीन्द्र भटनागर को सम्मानित करते
माहेश्वर तिवारी, डॉ महेश दिवाकर, डॉ मीना नक़वी
 मंच पर साथ में हैं आनंद कुमार 'गौरव'
योगेन्द्र वर्मा व्योम
कृष्ण कुमार 'नाज़'
अवनीश सिंह चौहान


मुरादाबाद। (19 जून 2011) हिमगिरी कालोनी स्थित शिव मंदिर सभागार में विप्रा कला साहित्य द्वारा सम्मान समारोह के अंतर्गत कानपुर से पधारे गीतकवि सत्येंद्र तिवारी और महानगर के कवि शचींद्र भटनागर को सम्मानित किया।इस समारोह में कानपुर के गीतकार सत्येंद्र तिवारी को 'उत्कृष्ट गीत कवि' और महानगर के कवि शचींद्र भटनागर को 'साहित्यार्जुन' सामान प्रदान किया गया । सम्मान स्वरूप अंग वस्त्र, प्रतीक चिह्न एवं सम्मान पत्र भेंट किया गया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ नवगीतकार श्री माहेश्वर तिवारी ने कहा, "अच्छे साहित्यविद एवं साहित्यकारों को सम्मानित करने की अनूठी परंपरा रही है विप्रा कला साहित्य मंच की। इस हेतु आनंद कुमार 'गौरव' को मेरा आशीर्वाद। शचीन्द्र भटनागर और सत्येन्द्र तिवारी दोनों का ही रचनाकर्म सकारात्मक ऊर्जा से भरा है। " डॉ. महेश दिवाकर, योगेन्द्र वर्मा 'व्योम', कृष्ण कुमार 'नाज़' और अवनीश सिंह चौहान ने भी सम्मानित रचनाकारों के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर संपन्न काव्य गोष्ठी में डॉ. मीना नक़वी, डॉ. महेश दिवाकर, सत्येन्द्र तिवारी, शचीन्द्र भटनागर तथा माहेश्वर तिवारी ने रचना पाठ किया।

कार्यक्रम का आरम्भ दीप प्रज्ज्वलन एवं डॉ पूनम बंसल द्वारा प्रस्तुत सरस्वती वंदना से हुआ। समारोह में डॉ ओम आचार्य, मक्खन मुरादाबादी, डा.प्रेमवती उपाध्याय, जगदीश भटनागर, योगेंद्र पाल सिंह विश्नोई, वीरेंद्र बृजवासी, मनोज मनु, सतीश सार्थक, रघुराज निश्चल, विकास मुरादाबादी, गोविन्द मुरारी, प्रकाश मुरारी, हरिशंकर, समीर तिवारी, जीतेन्द्र जौली आदि मौजूद रहे। अध्यक्षता डा.माहेश्वर तिवारी तथा संचालन आनंद कुमार गौरव ने किया।


 Vipra Kala Sahitya Manch

1 टिप्पणी:

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: