पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

शुक्रवार, 7 दिसंबर 2012

पुस्तक: टुकड़ा कागज़ का (गीत-संग्रह)

(बाएं से दाएं) सर्वश्री श्याम श्रीवास्तव, पारसनाथ गोवर्धन, निर्मल शुक्ल, मधुकर अष्ठाना, वीरेंद्र आस्तिक, अवनीश सिंह चौहान, महेश दिवाकर, पूर्णिमा वर्मन, जगदीश व्योम, नचिकेता, कुमार रवीन्द्र, दिवाकर वर्मा एवं शचीन्द्र भटनागर मेरे गीत संग्रह 'टुकड़ा कागज़ का'  लोकार्पण करते हुए। कालिंदी विला- अभिव्यक्ति विश्वं, लखनऊ, 17 नवम्बर, 2012. 


पुस्तक : टुकड़ा कागज़ का (गीत-संग्रह) 
ISBN 978-81-89022-27-6
कवि : अवनीश सिंह चौहान 
प्रकाशन वर्ष : प्रथम संस्करण-2013 
पृष्ठ : 119
मूल्य : रुo 125/-
प्रकाशक : विश्व पुस्तक प्रकाशन  
304-ए,बी.जी.-7, पश्चिम विहार, नई दिल्ली-63 
वितरक : पूर्वाभास प्रकाशन
चंदपुरा (निहाल सिंह), 
इटावा-206127(उ प्र) 
दूरभाष: 09456011560
ई-मेल : abnishsinghchauhan@gmail.com 

'टुकड़ा कागज़ का' की समीक्षा: 

२. कल्पतरु एक्सप्रेस में: लिंक 



Tukada Kagaz Ka (An Anthology of Hindi Lyrics)  by Abnish Singh Chauhan

4 टिप्‍पणियां:

  1. Abnish ji ko hardik badhai.vimochan samaroh men ek sath poore navgeet sansar ki upsthiti geet sangrah aur geetkaar donon ke mahtwa ko dikhati hai.punah badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Abnish ji ko hardik badhai.vimochan samaroh men ek sath poore navgeet sansar ki upsthiti geet sangrah aur geetkaar donon ke mahtwa ko dikhati hai.punah badhai.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: