पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

शनिवार, 13 जुलाई 2013

समीक्षा: सत्य से साक्षात्कार करवाते गीतों का संग्रह - टुकड़ा कागज़ का


शिल्पकार जब अपने शिल्प को तराशता है तो वह एक ही समय में दो सृजन करता है, एक अन्तस की गहराइयों में सृजित होता है तो दूसरा स्थूल-जगत में मूर्तिमान हो उठता है। स्थूल-जगत में आकारबद्ध होने वाली प्रत्येक वस्तु नश्वर है। किन्तु हृदय के सूक्ष्मतम में होने वाला सृजन अविनाशी है। क्योंकि सृष्टि का चिरतंन सत्य ‘स्पन्दन’ है। पायल की छनछन हो, शिशु की किलकन हो, बछड़े की रंभन हो! जब तक स्पन्दन है, कविता का मरना निष्चित ही असंभव है। डॉ. अवनीश सिहं चौहान का नवगीत संग्रह ‘टुकड़ा कागज का’ ऐसे ही चिरंतन सत्य से साक्षात्कार करवाती रचनाओं का संग्रह है। 

संग्रह में अंतर-जगत की गहराइयों को छूता मन है तो, बाह्य-जगत की विषमताओं से परिचय करवाती मनःस्थिति है। टुकड़ा कागज का, एक तिनका हम, केशव मेरे, असंभव है, नदियॉं की लहरे, आदि गीत गहनतम अनुभूतियॉं हैं, तो अपना गॉव समाज, चिड़िया और चिरोटे, गली की धूल, रिसते हुए रिश्तों की कहानी कहते नवगीत हैं। वक्त की ऑंधी, पंच गॉंव का, सर्वोत्तम उद्योग, चुप बैठा धुनिया, श्रम की मंडी जैसे कई गीत समय की नब्ज में कंपकपाती ध्वनि के संग रिदम बिठाते नवगीत है। समाज की रगों में उठती गिरती धड़कनों को न केवल अवनीश गिन सकते हैं वरन् पाठक वर्ग भी उसके नाद को बखूबी आत्मसात करता है और जब पाठक और कवि की आत्मा द्वैत से अद्वैत हो जाती है समझईये कवि की साधना सफल हो गई।

जहॉं तक गीतों के शिल्प का प्रश्न है नवगीत रचने में अवनीश जी सफल हुये हैं। आधुनिक समय में भाषा भी विदेशी संक्रमण से बच नहीं पाई है। यद्यपि संग्रह के गीतों में विषय की दरकार के अनुसार ही विदेशी शब्दों का उपयोग हुआ है फिर भी वह गीत की मधुरता कम करने का कारण तो बने ही हैं। जिन गीतों में ऑंचलिकता का अपनत्व समाया है उनमें रसात्मकता सहज ही शामिल हो गई है।


विविधवर्णी इस गीत संग्रह का मूल स्वर असत्य के प्रति सत्य आग्रह और विषम को सम करने का प्रयत्न है। अहं की अकड़ विनाश का कारण बनती है इस शाश्वत सत्य को अवनीश जी ने बड़े ही नवीन प्रतीक के माध्यम से कहा है.....
‘अकड गई जो टहनी मन की उसको तनिक लचा दे’ विनयशील मन का विनय के महत्व को प्रतिपादित करता सुन्दर प्रयोग। ऐसे कई प्रयोग हैं जो सहज ही आकर्षित करने के साथ सहज ही अंतस को छू जाते हैं। यथा.......सोच रहे अपने सपनों की पैंजनिया टूट गई........या तोड़ दिया है किसने आपसदारी का वह साज..’ ‘गुमसुम गुमसुम-सी तू /भीतर भीतर तिरती है.’...स्त्री की वेदना, तरलता कुछ ही शब्दो में व्यक्त हो गई। रहिमन पानी राखिये बिन पानी सब सून को स्मरण कराती पंक्तियॉं ‘जब जब मरा ऑंख का पानी / आई हैं तब तब विपदाएँ' सम्मान और शर्म को बचाये रखने की सीख देती है।

संग्रह का प्रतिनिधि गीत
'टुकड़ा कागज़ का’ असीमित संभावनाओ का गीत है। गीत की अंतिम पंक्ति ‘चलता है हल गुड़ता जाए/ टुकड़ा कागज का’ में अवनीश जी प्रसि़द्ध कवि उमाशकर जोशी जी की कविता ‘‘छोटा मेरा खेत’’ की तरह कागज के टुकड़े को चौकोर खेत की तरह प्रस्तुत कर भावों के बीज रोपकर शब्दों की खेती करते दिखाई देते हैं।

‘तकली में अब लगी रूई है, कात रही है, समय सुई है/ कबिरा सा बुनकर बनने में लगते कितने साल ? नवगीत संग्रह की सबसे उत्कृष्ट पंक्तियॉं हैं। छोटी वय में ही कवि का मन जिन्दगी को कबीर की तरह बुनना चाहता है, ऐसा दार्शनिक चिंतन कवि के व्यक्तित्व की गहराईयों को दर्शाता है। अवनीश के गीतों में संतों-सा दर्शन है, परिस्थितियों का चिंतन है, और सर्वहित में प्रयत्नरत मन है।

कथ्य की परिपूर्ण संप्रेषणीयता के बीच जब भाव का आशावादी जल हिलोरे लेता है तो वहॉं आत्मा की शुद्धि का सरोवर बन जाता है। निश्चित ही नवगीत के इस सरोवर में अवगाहन कर सुधि पाठक स्वयं को र्स्फूत अनुभूत करेगें। अवनीश जी को मननशील संग्रह के लिये बधाई और शुभकामनायें।


(पुस्तक : टुकड़ा कागज़ का (गीत-संग्रह)। ISBN 978-81-89022-27-6। कवि : अवनीश सिंह चौहान। प्रकाशन वर्ष : प्रथम संस्करण-2013। पृष्ठ : 119, मूल्य : रुo 125/-। प्रकाशक : विश्व पुस्तक प्रकाशन, 304-ए,बी.जी.-7, पश्चिम विहार, नई दिल्ली-63 )      

समीक्षक:
डा.साधना बलवटे

सम्पर्क : ई-2 / 346, अरेरा कॉलोनी, भोपाल 
दूरभाष: 0755-2421384, 9993707571
ईमेल:dr.sadhnabalwate@yahoo.in

Tukada Kagaj Ka (Hindi Lyrics) by Dr Abnish Singh Chauhan, Etawah, U.P.

2 टिप्‍पणियां:

  1. अवनीश जी को बहुत बहुत बधाई इस प्रकाशन पे ...बहुत ही सुन्दर समीक्षा है किताब की ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. डा. साधना बलवटे जी ने एक अच्छी किताब की अच्छी समीक्षा की है. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: