पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

मंगलवार, 22 सितंबर 2015

एसआरएम विश्वविद्यालय द्वारा अवनीश सिंह चौहान को 'हिंदी गौरव सम्मान'


21 सितंबर 2015 को एसआरएम विश्वविद्यालय दिल्ली-एनसीआर में हिन्दी दिवस मनाया गया, जिसमें राज्यस्तरीय निबंध एवं कविता पाठ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ सोनीपत के सांसद रमेश चन्द्र कौशिक, महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय से हिन्दी के विभागाध्यक्ष प्रो रामसजन पाण्डेय द्वारा माँ सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन से हुआ। 

सोनीपत के सांसद रमेश चन्द्र कौशिक ने एसआरएम विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग द्वारा हिंदी पखवाड़ा मनाये जाने की सराहना करते हुए इसे विज्ञान और तकनीकी क्षेत्र के लिए एक अच्छी पहल बताया। तदुपरांत उन्होंने राज्यस्तरीय निबंध एवं कविता पाठ प्रतियोगिता के प्रतिभागियों एवं विजेताओं को सम्मानित किया। इसी कड़ी में एसआरएम विश्वविद्यालय के कुलपतिं प्रो एस राजराजन, प्रो रामसजन पाण्डेय, प्रो डीके पाण्डेय, कुलसचिव डॉ मनीष भल्ला एवं प्रो पीएम गौड़ के कर-कमलों से एसआरएम विश्वविद्यालय के बहुभाषी शिक्षक-साहित्यकार  अवनीश सिंह चौहान को 'हिंदी गौरव सम्मान' से अलंकृत किया गया। 

एसआरएम विश्वविद्यालय द्वारा डॉ अवनीश सिंह चौहान को 'हिंदी गौरव सम्मान' दिए जाने पर बधाई देते हुए कुलपतिं प्रो एस राजराजन ने कहा कि हिंदी भारत की सबसे अधिक बोली और समझी जाने वाली भाषा के रूप में प्रतिष्ठित है। महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय से हिन्दी के विभागाध्यक्ष प्रो रामसजन पाण्डेय ने हिंदी के महत्व को रेखांकित करते हुए राज्यस्तरीय निबंध एवं कविता पाठ प्रतियोगिता के प्रतिभागियों एवं विजेताओं को शुभकामनाएं दीं और बहुभाषी साहित्यकार अवनीश सिंह चौहान द्वारा राज्यस्तरीय निबंध एवं कविता पाठ प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल के सदष्य की भूमिका का निर्वहन करने एवं सफल काव्यपाठ करने हेतु बधाई दी।

इस अवसर पर कुलसचिव डॉ मनीष भल्ला, कई विभागों के निदेशकगण, आचार्यगण, छात्र एवं छात्राएं उपस्थित रहे। कार्यक्रम के संयोजक हिंदी भाषा एवं साहित्य के जाने-माने विद्वान प्रो पी.एम. गौड़ रहे।


1 टिप्पणी:

  1. कुछ बातें अनायास ही मन प्रफुल्लीत कर देती हैं। यह उनमें से एक है।आपको सादर धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: