पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

मंगलवार, 6 अक्तूबर 2015

‘केसरिया सूरज‘: भावों का खूबसूरत गुलदस्ता

कृति : केसरिया सूरज (कविता संग्रह)
कवि : विभावसु तिवारी
प्रकाशक : मिलिंद प्रकाशन, हैदराबाद
वर्ष : 2015, मूल्य : रु 250/-, पृष्ठ : 144
संपर्क : vtiwari12@gmail.com


विभावसु तिवारी
वरिष्ठ पत्रकार व लेखक विभावसु तिवारी जी की सद्यः प्रकाशित काव्यकृति ‘केसरिया सूरज‘ जीवन के अनुभवों पर आधारित सारगर्भित रचनाओं का संकलन है। उनका यह संग्रह गूढ़ साहित्यिक काव्य शैली से हट कर रचा गया है, जोकि सहज एवं सरस शब्दों में जन-गण-मन के विविध आयामों को उद्घाटित करता है। उनकी कविताओं में जीवंतता और जिंदादिली हैं, सामाजिक विषमताओं का उद्घाटन है, राजीनीति पर व्यंग्य है, धर्म-अधर्म पर सम्यक दृष्टि है और मन को मोहने वाले बिम्ब हैं। कुल मिलाकर, उनका यह रचनात्मक प्रयास सराहनीय है।

समीक्षक :
डॉ प्रियंका चौहान
चंदपुरा, इटावा, उ.प्र.


Kesariya Sooraj by Vibhavasu Tiwari

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: