पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

गुरुवार, 19 मई 2016

विभावसु तिवारी की पुस्तक 'अमिट लकीरें' का विमोचन


दिल्ली: वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक विभावसु तिवारी की सद्या प्रकाशित पुस्तक 'अमिट लकीरों' का दिल्ली में पत्रकारों के मिलन समारोह में विमोचन किया गया।

नवभारत टाइम्स के पूर्व सम्पादक रामकृपाल जी ने वरिष्ठ पत्रकारों की उपस्थिति में विभावसु तिवारी की पुस्तक का विमोचन किया। पुस्तक पर अपनी टिप्पणी करते हुए रामकृपाल जी ने कहा कि यह पुस्तक विभावसु तिवारी के पत्रकारिता से जुड़े संस्मरणों का संकलन हैं। हेमन्त स्नेही ने कहा कि तिवारी जी ने अपनी इस पुस्तक में 1970 से 1980 के दशक के उन ज्वलंत राजनीतिक घटनाओं की चर्चा की है, जिनकी उन्होंने समय-समय पर रिपोर्टिंग की थी। दिलबर गोठी ने पुस्तक को महत्वपूर्ण मानते हुए कहा कि तिवारी जी ने इस पुस्तक में अपनी जीवन यात्रा को लेकर भी कुछ संस्मरण लिखे हैं।

अन्य कई विद्वानों का मनना रहा कि आम पाठक विशेष रूप से युवा पत्रकार तिवारी जी के संस्मरणों के माध्यम से समकालीन राजनीतिक घटनाक्रमों और तत्कालीन सामाजिक जीवन के प्रमुख पहलुओं से अवगत होंगे। पत्रकारिता में अध्ययनरत छात्र इसका भरपूर लाभ उठा सकेंगे।

इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकारों में सर्वश्री शकील अख्तर, श्रीकरंत शर्मा, आशीष पांडे, राजेश मित्तल, सुश्री नमिता सहित कई अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे।


Book Release; Amit Lakeeren by Vibhavasu Tiwari

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: