पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

सोमवार, 11 सितंबर 2017

लघु कथा : प्रेस दीर्घा - अवनीश सिंह चौहान

अवनीश सिंह चौहान

विश्वविद्यालय के सभागार में एक विशिष्ट कार्यक्रम होना है। कार्यक्रम के प्रारंभ होने से लगभग आधा घंटा पूर्व अभिभावक, छात्र, शिक्षक, अतिथि निर्धारित स्थान पर बैठ चुके हैं। दो असिस्टेंट प्रोफेसर भी वहाँ आकर बैठ जाते हैं।

अनुशासन समिति में कुछ सुगबुगाहट हुई। सिक्योरिटी मेन दौड़कर वहाँ पहुंचता है। समिति से निर्देश पाकर वह दूर से चिल्लाकर बोलता है- "ए डॉक्टर साब, वहाँ से उठो। पीछे जाकर बैठो।"

दोनों असिस्टेंट प्रोफेसर चुप। वह फिर चिल्लाता है। सभागार स्तब्ध!

दोनों असिस्टेंट प्रोफेसर हाथ से इशारा कर उसे अपने पास बुलाते हैं, परन्तु वह उनके पास नहीं जाता है। उसकी ईगो हर्ट। 

अनुशासन समिति में खीझ। समिति का एक सदस्य सिक्योरिटी मेन से व्यवस्था में जुटे छात्रों को बुलाने को कहता है। छात्र आते हैं, किन्तु वे यह कहकर निकल लेते हैं कि यह आपका आपसी मामला है।

पुनः मीटिंग। खड़े-खड़े। खुसरपुसर।

तब तक एक और फैकल्टी प्रेस दीर्घा में आकर बैठ जाती है; सभागार में प्राध्यापकों के लिए आरक्षित सीटें धीरे-धीरे भरने लगती हैं। 

कुछ समय बाद अनुशासन समिति एक दबंग सदस्य को प्रेस दीर्घा खाली कराने को भेजती है। वह अपना भाषण प्रारम्भ करता है। सभागार पुनः स्तब्ध!

दोनों असिस्टेंट प्रोफेसर मिस्टर दबंग से विनम्रतापूर्वक पूछते हैं- "यहाँ क्या लिखा है?" 

"प्रेस दीर्घा", वह कड़क शब्दों में जवाब देता है। 

"हम कौन हैं?"

सन्नाटा। कोई उत्तर नहीं।

यकायक उसकी समझ में कुछ आता है। वह बात बदलता है- "मै तो इस फैकल्टी को हटाने आया हूँ।"

वह उस फैकल्टी का हाथ पकड़कर प्रेस दीर्घा से बाहर ले जाता है। मिस्टर दबंग अपने बॉस को रिपोर्ट करता है कि वे दोनों प्रेस कमेटी में हैं, ड्यूटी चार्ट में उनके भी नाम हैं।

(यह लघुकथा एसआरएम विश्वविद्यालय दिल्ली-एनसीआर में घटी एक घटना पर आधारित है)

Dr Abnish Singh Chauhan

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (12-09-2017) को गली गली गाओ नहीं, दिल का दर्द हुजूर :चर्चामंच 2725 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  2. आज के सन्दर्भ में अच्छी कहानी.

    जवाब देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: