पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

रविवार, 23 जून 2013

वसुन्‍धरा पाण्‍डेय निशी की पाँच प्रेम कविताएँ

वसुन्‍धरा पाण्‍डेय निशी 

संभावनाशील रचनाकार वसुंधरा पाण्डेय का जन्म 2 जून 1972 को जनपद देवरिया में हुआ। आपने हिन्दी साहित्य में एम. ए. गोरखपुर विश्वविद्यालय से किया। अपने बारे में वसुंधरा जी कहती हैं: "बचपन से डायरी लिखने का शौक रहा, पर सहेजी एक भी नही...फिलहाल फेसबुक और ब्लाग जैसे सोसल नेटवर्क और यहीं जुड़े मित्रों का हौसला अफजाई ने साथ दिया, बचपन से ना सहेजे हुए शब्दों को सहेजने लगी हूँ...फ़िलहाल उपलब्धि के नाम पर दो कवितायेँ 'स्त्री होकर सवाल करती है' में छपी है, एकाध पत्र-पत्रिका में, एक संकलन प्रकाशनार्थ तैयार है, शीघ्र हीं आप सबके बीच होगा।" वर्त्तमान में आप इलाहाबाद में रहती हैं। सम्‍पर्क: vasundhara.pandey@gmail.com। आपकी पाँच प्रेम कविताएँ यहाँ प्रस्तुत हैं:-

1. जब फूल सा दिल
चित्र गूगल सर्च इंजन से साभार

‘जब फूल सा दिल
हो जाए पत्थर
तो कोई क्या करे ?’

--मैंने पूछा

‘प्यार में
पिघल जाते हैं पत्थर भी’

--उसने टोका

शायद
उसे मालूम ना था
फूल
मिट्टी हवा पानी में खिलते हैं

पत्थर
लावे में उबल कर निकलते हैं !

2. उसने कहा 

उसने कहा-
जीवन ...संघर्ष है 
मुझे लगा जीवन प्रेम है

और हम
निकल पड़े
अपनी-अपनी डगर...

उसे क्या मिला 
मुझे नहीं मालूम 

मुझे मिली आँखें
और तुम और यह पंख...! 

3. एक जन्म और सही

काश रब ऐसा किये होते
ये जनम हमारा
एक दुसरे के लिये हुआ होता

कोई बात नहीं
तुम तो मेरी
जन्म-जन्म की तलाश हो
एक जन्म और सही..!

4. हम तो थे ही पत्थर

हम तो थे ही पत्थर
सनम भी पत्थरदिल

जब भी मिले...गरजे
खूब गरजे...फिर बरसे
खूब बरसे...फिर तरसे
और यों...तरसना
जिंदगी का हासिल हुआ

5. तुम्हारे भीतर है कहीं

प्यार चीता है यहाँ
वनदेवी का रति सुख
कभी भी कहीं से भी
कोई हिरनी का छौना कपि-मृग शावक
कोई छवि.. कोई खिलौना
इस चीते की मूछ के बाल खींच कर
इसे सम्मानित कर देता है
और इसकी गुर्राहट में
वसंत झरने लगता है बेहिसाब

ना ना ना
यहाँ से नहीं दिखता
बहुत दूर बहुत दूर
तुम्हारे भीतर है कहीं !

Five Hindi Poems of Vasundhara Pandey Nishi

23 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. Aap kavita karti hai very nice . Bhagvan ki yaad me bani lagti hai bhunt achi lagi
      baba ko yad karti ho

      हटाएं
  2. अंतर्मन को छू लेने वाली रचनायें ---

    उत्तर देंहटाएं
  3. panchon kavitayen gahre str par chhooti hain...badhai


    Hareram Sameep

    उत्तर देंहटाएं
  4. पत्थर होना भी
    अच्छा होता है
    अच्छा लगता है
    जब पहली बार
    पता होता है !

    बहुत सुंदर कृ्तियाँ सभी !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बिछोड़ा ही है प्रेम की परम उपलब्धि ,शिखर। जब सारी दुनिया सांसारिक सुखों की कामना करती है भगत अपने भगवान् के विछोह में सिसकता है प्रेमी भी।

    3. एक जन्म और सही

    काश रब ऐसा किये होते
    ये जनम हमारा
    एक दुसरे के लिये हुआ होता

    (दूसरे ,मूंछ। .. )

    नैना अंतर आव तू ,नैन झपी तोहि लेउ ,

    ना मैं देखूं और को ,ना तोहि देखन देउ।


    सभी रचनाओं में पक्का रंग है प्रेम का ,ये रंग कच्चा नाहिं

    उत्तर देंहटाएं
  6. श्रीमती पाण्डेय जी,
    हिंदी साहित्य कों मान दिलाने वाली इलाहाबाद कर्म-भूमि की सशक्त कवियत्री हैं |सुश्री महादेवी वर्मा ,श्री पन्त जी ,श्री कैलाश गौतम के इस शहर में हमेशा साहित्य के उच्चकोटि के साधक रहें हैं |
    उनकी कवितायेँ पढ़कर मन बहुत हर्षित हुआ,एक एक कविता कई कई बार पढ़ीक्यूंकि आनंदित करती हैं ये रचनाएं |ढेरो शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  7. सभी रचनाएं अर्थपूर्ण और गहरे भाव संप्रेषित करती हैं, बहुत सुंदर.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहद खूबसूरत रचनाएं... पढ़कर बहुत अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत उम्दा भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

    उत्तर देंहटाएं
  10. सभी कविताएं एक से बढ़ कर एक | बहुत बहुत बधाई वसू

    उत्तर देंहटाएं
  11. मन के गहरे में कहीं हलन चलन मचा देने वाली कोमल मर्मस्पर्शी कवितायेँ --

    उत्तर देंहटाएं

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: