पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

रविवार, 8 सितंबर 2013

`रीच' विरासत के सदस्यों ने डॉ बुद्धिनाथ मिश्र को दी दोहरी बधाई


 डॉ बुद्धिनाथ मिश्र 

देहरादून, 7 सितम्बर। `रीच' विरासत के कार्यालय में आज हुई बैठक में देहरादून के शीर्षस्थ कवि और `रीच' के वरिष्ठ सदस्य डॉ . बुद्धिनाथ मिश्र को इस माह देश के दो विशिष्ट सम्मान एक साथ मिलने पर उन्हें दोहरी बधाई दी गयी।

डॉ . मिश्र को आगामी 14 सितम्बर को लखनऊ में आयोजित एक भव्य समारोह में राज्य के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव उन्हें उप्र हिन्दी संस्थान का दो लाख रु का `साहित्य भूषण ' सम्मान प्रदान करेंगे।

उन्हें दूसरा महत्वपूर्ण पुरस्कार 21 सितम्बर को कोलकाता के भारतीय भाषा परिषद् सभागार में आयोजित परिवार मिलन संस्था का प्रथम `काव्य वीणा ' पुरस्कार दिया जाएगा। रु . 51 हजार का यह सम्मान पिछले वर्षों में प्रकाशित कुल 68 छंदोबद्ध कृतियों में `शिखरिणी ' गीत संग्रह को प्रथम चुने जाने के कारण उन्हें दिया जाएगा ।

मिथिला में जन्मे , काशी में पले -बढे बुद्धिनाथ जी कलकत्ता में 18 वर्षों तक सरकारी सेवा में रहने के बाद ओएनजीसी के आमंत्रण पर 1998 में देहरादून आये और 2009 में मुख्य प्रबंधक ( राजभाषा ) पद से रिटायर होने के बाद स्थायी रूप से यहीं बस गए । पिछले मई मास में भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशित इनका काव्य संग्रह `ऋतुराज एक पल का ' काफी चर्चित हुआ है । बुद्धिनाथ जी को रूस का अन्तर-राष्ट्रीय अलेग्जेंडर पुश्किन सम्मान सहित देश-विदेश के अनेक पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: