पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

सोमवार, 28 सितंबर 2015

प्रो. सहदेव सिंह स्मृति सम्मान प्रारंभ


ख्यात लेखक, पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता स्व. प्रो. सहदेव सिंह की स्मृति में प्रो. सहदेव सिंह ट्रस्ट की ओर से 2015 से एक विशेष सम्मान प्रारंभ किया जा रहा है । ‘प्रो. सहदेव सिंह स्मृति सम्मान’ प्रत्येक वर्ष किसी ऐसे चयनित लेखक को प्रदान किया जायेगा जिसके लेखन का मूल स्वर सामाजिक सुधार और परिवर्तन हो । सम्मान-स्वरूप चयनित लेखक को 11,000 की राशि, प्रतीक चिन्ह, शॉल, श्रीफल, प्रो. सहदेव सिंह रचित साहित्य आदि से सम्मानित किया जायेगा । 

ट्रस्ट द्वारा 3 सदस्यीय निर्णायक मंडल का गठन किया गया है, जिसमें आलोचक डॉ. खगेन्द्र ठाकुर(पटना), कथाकार हरिसुमन बिष्ट(दिल्ली), निबंधकार डॉ. रंजना अरगड़े (अहमदाबाद), पत्रकार राकेश अचल (ग्वालियर), कवि जयप्रकाश मानस (रायपुर) संयोजक-सदस्य शामिल हैं । 

 इच्छुक प्रतिभागी लेखक, प्रकाशक, प्रशंसक, साहित्यिक-सामाजिक संस्थाएँ अपनी अनुशंसा सहित पिछले 5 वर्षों के भीतर अर्थात् 2010 से 2014 में प्रकाशित कृतियों की 2 प्रतियाँ (कहानी संग्रह/उपन्यास/निबंध संग्रह/ आलोचना, जिसमें सामाजिक परिवर्तन की मौलिक रचनात्मक सौंदर्य की चेष्टा हो ) संयोजक, प्रो. सहदेव सिंह स्मृति सम्मान, एफ-3, आवासीय परिसर, छ.ग. माध्यमिक शिक्षा मंडल, पेंशनवाड़ा, रायपुर, छत्तीसगढ़-492001 के पते पर 30 नवंबर, 2015 तक भेज सकते हैं । 

यह सम्मान रचनाकार प्रत्येक वर्ष होनेवाले अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन में प्रदान किया जायेगा । 

प्रो. सहदेव सिंह - परिचय :
प्रो. सिंह आधुनिक भारतीय इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण समय 1928 से लेकर जीवन-पर्यंत सक्रिय रहे । चाहे वह बाल कांग्रेस कमेटी हो, या कोई और फ़ोरम । उन्होंने कई बार जेल यात्रायें कीं किन्तु आज़ादी के बाद कभी भी कांग्रेसी, वामपंथी या भाजपाई की तरह सत्ता का लाभ नहीं लिया । 12 वर्षों तक अध्यापन कार्य किया । 1962 में पहली बार और 1967 में दूसरी बार उत्तरप्रदेश विधानसभा के सदस्य और विभिन्न पदों पर रहे । उनकी प्रमुख कृतियाँ हैं – 1. सामाजिक न्याय का संघर्ष 2. हमारे सामाजिक विघटन की कहानी 3. जाति-उदय, विकास, विरोध परिवर्तन और अब 4. बुद्ध ने हमें सिखाया 5. कबीर । इसके अलावा उन्होंने 30 वर्ष तक 'हमारा समाज' नामक साप्ताहिक का प्रकाशन और संपादन किया । 6 अगस्त 1919 को इटावा के ग्राम पाली खुर्द में जन्मे श्री सिंह ने स्वाध्यायी छात्र के रूप में एम.ए (हिंदी व समाज शास्त्र), प्रभाकर, साहित्य रत्न, एल.टी और एलएल.बी की डिग्री हासिल की थी । साहित्य और सामाजिक उत्थान को ही सदैव जीवन का ध्येय मानने वाले श्री सिंह का निधन 18 जनवरी, 2012 को हुआ ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: