पूर्वाभास पर आपका हार्दिक स्वागत है। 2012 में पूर्वाभास को मिशीगन-अमेरिका स्थित 'द थिंक क्लब' द्वारा 'बुक ऑफ़ द यीअर अवार्ड' प्रदान किया गया। 2014 में मेरे प्रथम नवगीत संग्रह 'टुकड़ा कागज का' को अभिव्यक्ति विश्वम् द्वारा 'नवांकुर पुरस्कार' एवं उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' प्रदान किया गया। इस हेतु सुधी पाठकों और साथी रचनाकारों का ह्रदय से आभार।

मंगलवार, 26 नवंबर 2019

मथुरा में पुस्तक लोकार्पण एवं सम्मान समारोह

संतोष कुमार सिंह की पुस्तकों का लोकार्पण करते प्रबुद्धजन

मथुरा : रविवार, 24 नवम्बर 2019 को आलोक पब्लिक स्कूल, पंचवटी कॉलोनी, मथुरा के सभागार में पुस्तक लोकार्पण एवं साहित्यकार सम्मान समारोह का भव्य आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ माँ शारदे की पूजा-अर्चना-वंदना से हुआ। समारोह की अध्यक्षता सेवानिवृत्त न्यायाधीश श्री एस.एस. यादव (आगरा) ने की, जबकि मुख्य अतिथि वरिष्ठ समाजसेवी डॉ अशोक अग्रवाल (मथुरा), अति-विशिष्ट अतिथि महामंडलेश्वर योगी नवलगिरि जी महाराज (वृन्दावन), विशिष्ट अतिथि डॉ अनिल गहलौत (मथुरा), श्री निशेश जार एवं डॉ शेषपाल सिंह शेष (आगरा) रहे।

प्रथम सत्र में माँ शारदे के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन के उपरान्त चार साहित्यकारों को उनकी साहित्यिक सेवाओं के लिए सम्मानित किया गया। वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. आर. पी. सारस्वत (सहारनपुर) को 'आलोक स्मृति बाल साहित्यरत्न सम्मान',  वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. धर्मराज (मथुरा) को 'आलोक स्मृति साहित्यरत्न सम्मान',  वरिष्ठ साहित्यकार श्री चित्रांश रजनीश राज ब्रजवासी (मथुरा) को 'आलोक स्मृति सजल रत्न सम्मान' तथा बहुभाषी युवा कवि, आलोचक, सम्पादक डॉ. अवनीश सिंह चौहान (वृन्दावन) को 'बाबूसिंह स्मृति साहित्यरत्न सम्मान' देकर अलंकृत किया गया। इन सभी सरस्वती पुत्रों को शॉल, सम्मान पत्र, स्मृति चिन्ह तथा 1100-1100/- रुपये की सम्मान राशि प्रदान की गयी । साथ ही, पोद्दार इंटर कॉलेज, मथुरा की शिक्षिका कुमारी किरन वर्मा को पी.सी.एस. की परीक्षा उत्तीर्ण करने और 'जिला पंचायत राज अधिकारी' के पद पर नियुक्त होने पर 'आलोक स्मृति प्रतिभा सम्मान' प्रदान कर सम्मानित किया गया। 


इस समारोह में मथुरा के वरिष्ठ साहित्यकार संतोष कुमार सिंह की एक साथ चार बाल साहित्य की पुस्तकों-'वृक्षों में भी होता जीवन', अपने चाचा चंपकलाल', 'चींटा ले खर्राटे' तथा 'मैं पूछूँगा आप बताएँ' का भव्य लोकार्पण सम्मानित अतिथियों-साहित्यकारों के कर-कमलों से सम्पन्न हुआ। इस प्रकार संतोष कुमार सिंह की अब तक 48 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी  हैं। श्री सिंह को इस वर्ष 'जगपति चततुर्वेदी बाल विज्ञान लेखन सम्मान' के लिए उ.प्र. हिंदी संस्थान, लखनऊ द्वारा 51,000/- रुपये का पुरस्कार घोषित किया जा चुका है।


द्वितीय सत्र में कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। उपस्थित सभी कवियों- डॉ. आर.पी.सारस्वत, निखिता सिंह सेंगर, रवेन्द्र पाल सिंह रसिक, डॉ. विवेकनिधि, मदन मोहन अरविंद, चित्रांश रजनीश राज, सुमन पाठक, प्रिया शर्मा, मूलचंद शर्मा, अटलराम चतुर्वेदी, निशेश जार, डॉ अनीता चौधरी, सी.पी.शर्मा, जुगुनू सारस्वत, डॉ अनिल गहलौत, डॉ धर्मराज, अनुपम गौतम आदि ने गीत, सजल और हास्य व्यंग्य की रचनाओं का पाठ कर श्रोताओं को आनंदित कर दिया। सभागार में ब्रज भूषण वर्मा, डॉ. महेन्द्र प्रताप सिंह, तेजपाल सिंह सेंगर, प्रेमपाल सिंह शास्त्री, देवेन्द्र कुमार, एस. एस.चौहान, ए. पी. सिंह, डॉ. कमल कौशिक, एम. के. शर्मा, डॉ. भुवनेश कुमार सिंह, प्रदीप अग्रवाल, एस.एम.शर्मा, एस. एस. यादव, शैलेन्द्र शर्मा, नीटू शर्मा, मोहन मोही, चौ. जगवीर सिंह आदि सैकड़ों साहित्यप्रेमी उपस्थित रहे। मंच संचालन अनुपम गौतम तथा धन्यवाद ज्ञापन स्कूल प्रबंधक जितेन्द्रसिंह सेंगर ने किया।











यूट्यूब : https://youtu.be/LStQ4OI8I6A?fbclid=IwAR1UqAorYj8JOtzVe6LMuluURe55FuNFceWg1wMiVhvlcBWQwGs75m_p7kM

2 टिप्‍पणियां:

आपकी प्रतिक्रियाएँ हमारा संबल: